Wednesday, February 1निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

साइंस

Elit scripta volumus cu vim, cum no vidit prodesset interesset. Mollis legendos ne est, ex pri latine euismod apeirian. Nec molestie senserit an, eos no eirmod salutatus.

वेट लॉस ही नहीं आपके ब्लड प्रेशर को भी रखते हैं कंट्रोल अरबी के पत्ते

वेट लॉस ही नहीं आपके ब्लड प्रेशर को भी रखते हैं कंट्रोल अरबी के पत्ते

लाइफस्टाइल, साइंस
नई दिल्ली  आपने आज तक अरबी की सब्जी को कई तरह से बनाकर खाया होगा। अपने अनोखे स्वाद की वजह से अरबी की सब्जी ही नहीं उसकी पकौड़ी से लेकर रायता और दाल जैसी सभी चीजों को बेहद पसंद किया जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं सेहत के लिए अपने गुण और स्वाद की वजह से न सिर्फ अरबी बल्कि उसके पत्ते तक इस्तेमाल किए जाते हैं।    अरबी के पत्तों में मौजूद पोषक तत्व- अरबी के पत्तों में विटामिन ए, विटामिन सी, आयरन और फोलेट जैसे कई तत्व पाए जाते हैं, जो शरीर को कई बीमारियो से बचाए रखने में मदद करते हैं। दिल के आकार का दिखने वाला अरबी का पत्ता (Taro leaves aka Arbi ke patte) विटामिन सी (Vitamin C) से भरपूर होता है। यह एक एंटीऑक्सीडेंट के रुप में काम करता है और वेट लॉस से लेकर डायबिटीज कंट्रोल करने तक जैसे इसके कई स्वास्थ लाभ हैं। आइए जानते हैं ऐसे ही कुछ लाभ के बारे में।  अरब...
ऑस्टियोपोरोसिस के खतरे से बचने के लिए इन विटामिन्स को डाइट में जरूर करें शामिल

ऑस्टियोपोरोसिस के खतरे से बचने के लिए इन विटामिन्स को डाइट में जरूर करें शामिल

लाइफस्टाइल, साइंस
नई दिल्ली ऑस्टियोपोरोसिस के खतरे को रोकने के लिए कम उम्र में अपने हड्डियों की देखभाल करना बहुत जरूरी है। मजबूत हड्डियां न केवल आपको सही मुद्रा में खड़े होने में मदद कर सकती हैं, बल्कि आपके नाजुक अंगों को किसी भी तरह की चोट से भी बचा सकती हैं। हड्डियों का ख्याल रखने में कैल्शियम का बहुत बड़ा रोल है। कैल्शियम एक ऐसा खनिज है, जो हड्डियों के घनत्व (Bone Density) और हड्डियों की मजबूती को बढ़ाने में मदद करता है। हमें बचपन से ही हड्डियों को मजबूत करने के लिए कैल्शियम युक्त फूड्स जैसे डेयरी और कैल्शियम सप्लीमेंट खाने चाहिए। सच्चाई यह है कि स्वस्थ हड्डियों के लिए कैल्शियम ही एकमात्र खनिज नहीं है। आपके हड्डी के स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए कई अन्य पोषक तत्व समान रूप से जरूरत है। ये सभी खनिज मिलकर आपकी हड्डियों के घनत्व को बढ़ाते हैं और उम्र बढ़ने पर भी उन्हें स्वस्थ रखते हैं। जानें कैल्शियम के ...
मॉर्निंग की इन पांच बुरी आदतों के कारण भी हो जाते हैं पिम्पल्स

मॉर्निंग की इन पांच बुरी आदतों के कारण भी हो जाते हैं पिम्पल्स

लाइफस्टाइल, साइंस
नई दिल्ली पिम्पल्स से बचने के लिए हम कितनी ही क्रीम और मास्क का यूज करते हैं। खासकर जिन लोगों की स्किन ऑयली है, उनके पास सारे ही प्रॉडक्ट्स ऑयल फ्री होते हैं। फिर भी कई कोशिशों के बाद भी पिम्पल्स हो ही जाते हैं। ऐसे में बहुत जरूरी है कि आप पिम्पल्स से निपटने के लिए डाइट, प्रॉडक्ट्स के अलावा कुछ आदतों में भी सुधार करें। मॉर्निंग हैबिट्स भी पिम्पल्स के लिए जिम्मेदार होती हैं। आइए, जानते हैं कौन-सी हैं वे आदतें-  सुबह उठने के बाद चेहरा रगड़ना जब हम सुबह सोकर उठते हैं, तो हमारे चेहरे पर पसीने और नेचुरल ऑयल होता है। ऐसे में कभी भी चेहरे को रगड़ें नहीं। उठकर चेहरे को फेसवॉश से ही क्लीन करें। इसके लिए सबसे पहले चेहरे को पानी से साफ करें और फिर फेसवॉश अप्लाई करें।  फ्राइड फूड का ब्रेकफास्ट दिन का पहला मील हेल्दी होना चाहिए। आपको बिस्किट, नमकीन, नूडल्स या जंक फूड खाकर पेट न...
कोविड बूस्टर वैक्सीन से एचआईवी इंफेक्शन होने का कोई प्रमाण नहीं

कोविड बूस्टर वैक्सीन से एचआईवी इंफेक्शन होने का कोई प्रमाण नहीं

What's Hot, टॉप न्यूज़, यात्रा, लाइफस्टाइल, साइंस
नई दिल्ली विशेषज्ञों का कहना है कि सोशल मीडिया पर किये जा रहे उस दावे के समर्थन में कोई वैज्ञानिक साक्ष्य नहीं पाया गया है जिसमें कहा जा रहा है कि कोविड रोधी टीके की बूस्टर खुराक से एचआईवी संक्रमण हो सकता है। माना जा रहा है कि फ्रांस के विषाणु विज्ञान विशेषज्ञ लुक मोन्टैग्नीयर ने पहली बार इसकी आशंका जताई थी। मोन्टैग्नीयर को ह्यूमन इम्यूनो डेफिशिएंसी वायरस (एचआईवी) की खोज के लिए वर्ष 2008 में चिकित्सा का नोबेल पुरस्कार प्रदान किया गया था। इस महीने उनका निधन हो गया। तब से ट्विटर पर बहुत से लोग एक उद्धृत कथन साझा कर रहे हैं जिसे मोन्टैग्नीयर का बयान बताया जा रहा है। इस कथन में कहा गया है, “आपमें से जिन्होंने टीके की तीसरी खुराक ली है,जाइए और अपनी एड्स की जांच करवाइए। नतीजे आपको चौंका सकते हैं। इसके बाद आप अपनी सरकार पर मुकदमा कीजिए।” कई विशेषज्ञों ने पीटीआई-भाषा को बताया कि इसका कोई साक्ष...
हर कपल को एक-दूसरे से करने चाहिए ये पांच हेल्थ प्रॉमिस

हर कपल को एक-दूसरे से करने चाहिए ये पांच हेल्थ प्रॉमिस

यात्रा, लाइफस्टाइल, साइंस
नई दिल्ली आपने प्यार में जीने-मरने की कई कसमें खाई होंगी। इसके अलावा भी कपल्स अपने रिलेशनशिप को मजबूत करने के लिए कई वादे करते हैं लेकिन क्या आपने एक-दूसरे की सेहत को बनाए रखने के लिए कोई वादा किया है? अगर नहीं, तो अपनी प्रॉमिस लिस्ट में कुछ और हेल्थ प्रॉमिस जरूर जोड़ दें, यह प्रॉमिस न सिर्फ आप दोनों को हेल्दी रखेंगे बल्कि इससे आप दोनों एक साथ जीने की कसम को प्रैक्टिकली पूरा कर पाएंगे।  फिटनेस चैलेंज कभी-कभी ऐसा होता है कि हमें अकेले एक्सरसाइज करना बहुत भारी लगता है। ऐसे में आप अपने पार्टनर के साथ मिलकर एक्सरसाइज, योगा और हेल्दी डाइट के लिए शेड्यूल बना सकते हैं.। आप एक-दूसरे के साथ मिलकर वेट लॉस कॉम्पिटिशन भी कर सकते हैं। इससे आपको मजा भी आएगा और आप फिट भी रहेंगे। हाइड्रेट रहेंयह पढ़कर शायद आपको हंसी आएगी कि हाइड्रेट रहने का प्रॉमिस आखिर कैसा होता है? जी हां, बॉडी को हाइड्रेट रखन...
लड़के और लड़कियों के लिए टॉप यूनिक नामों की लिस्ट

लड़के और लड़कियों के लिए टॉप यूनिक नामों की लिस्ट

यात्रा, लाइफस्टाइल, साइंस
नई दिल्ली जब भी बात बच्चों के नाम रखने की आती है, तो पेरेंट्स अपने बच्चों का ऐसा नाम चुनते हैं, जो सबसे यूनिक हो। इसके लिए वे दोस्तों, रिश्तेदारों और इंटरनेट की हेल्प से कोई यूनिक नेम सर्च करते रहते हैं। वहीं, नाम रखने में टीवी सीरियल्स के फेमस करेक्टर्स के नाम रखने का ट्रेंड भी काफी बढ़ा है। जैसे, 'यह रिश्ता क्या कहलाता है' शो एक टाइम पर इतना पॉप्युलर था कि उस दौरान जन्म लिए बच्चों का नाम नैतिक, अक्षरा रखने का ट्रेंड काफी बढ़ गया था। बीते कुछ सालों में टीवी सीरियल्स के पॉप्युलर नाम रियल लाइफ में भी काफी पसंद किए जा रहे हैं। एक नजर डालते हैं ऐसे ही यूनिक पॉप्युलर नामों पर। आप भी इन नामों के मतलब जानकर अपने बच्चों का नाम इनमें से रख सकते हैं। बेबी गर्ल के पॉप्युलर नाम अमायरा: (प्यारी राजकुमारी)आर्य: (बुद्धिमान या महान)आशी (सुंदर मुस्कान)अनिका (देवी दुर्गा)आहना (सूर्य की पहली किर...
डिनर में कुछ डिफरेंट खाने का मन है, तो बनाएं फूलगोभी की कढ़ी

डिनर में कुछ डिफरेंट खाने का मन है, तो बनाएं फूलगोभी की कढ़ी

यात्रा, लाइफस्टाइल, साइंस
नई दिल्ली आपने कई तरह की कढ़ी खाई होगी लेकिन क्या आपने कभी फूलगोभी की कढ़ी खाई है? अगर नहीं, तो देर किस बात की? आज ही अपनी रेसिपीज लिस्ट में फूलगोभी की कढ़ी की रेसिपी भी जोड़ लें। आइए, जानते हैं इसकी रेसिपी-  फूलगोभी की कढ़ी बनाने के लिए सामग्री-फूलगोभी- 1 1/2 कप कटी हुईकाबूली चने-1 कप उबले हुएप्याज- 1 कप कटी हुईटमाटर- 1/2 कप कटे हुएहरी मिर्च- 1 कटी हुईतेजपत्ता- 1अदरक-लहसुन का पेस्ट- 1 चम्मचराई- आधा चम्मचहल्दी पाउडर- आधा चम्मचलाल मिर्च पाउडर- आधा चम्मचगरम मसाला- आधा चम्मचस्वादानुसार नमकछौंक के लिए तेल  फूलगोभी की कढ़ी बनाने की विधि- - फूलगोभी की कढ़ी बनाने के लिए सबसे पहले किसी बर्तन में फूलगोभी को थोड़ा पानी डालकर उबलने रख दें। -अब पैन में तेल डालकर गर्म कर लें। इसमें राई, तेजपत्ता और अदरक-लहसुन का पेस्ट डालकर थोड़ी देर भून लें।-अब इसमें प्याज और हरी मिर्च डालकर ग...
टैनिंग रिमूव करके नेचुरल ग्लो पाने के लिए कच्चे दूध से करें फेशियल

टैनिंग रिमूव करके नेचुरल ग्लो पाने के लिए कच्चे दूध से करें फेशियल

यात्रा, लाइफस्टाइल, साइंस
नई दिल्ली आपके चेहरे पर अगर टैनिंग हो गई है, तो आपको इसके लिए महंगे प्रॉडक्ट्स या केमिकल ट्रीटमेंट कराने की जरूरत नहीं है बल्कि कच्चे दूध से कुछ दिनों में ही टैनिंग आसानी से चली जाती है। कच्चे दूध में विटामिन ए, सी, ई, आयरन, फाइबर जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं। कच्चे दूध में फाइबर पाया जाता है, जो स्किन के लिए काफी फायदेमंद है। आज हम आपको बता रहे हैं कि कच्चे दूध से आपको कैसे फेशियल करना चाहिए।  क्लीजिंग कच्चे दूध से क्लीजिंग करने के लिए आपको कच्चे दूध में एलोवेरा जेल मिलाकर चेहरे और गर्दन पर लगाना है। इसके बाद 2-3 मिनट्स की मसाज के बाद चेहरे को नॉर्मल पानी से धो लें।  स्क्रबिंगकच्चे दूध से चेहरे की डेड स्किन सेल्स को हटाकर चेहरे को साफ किया जा सकता है। इसके लिए 1 चम्मच चीनी और 3 चम्मच कच्चा दूध मिला लें। अब इनके साथ 1 चम्मच बेसन मिलाएं. तीनों चीजों से तैयार पेस्ट को चेहर...
सबसे सुरक्षित दवाओं में से एक है पेरासिटामोल

सबसे सुरक्षित दवाओं में से एक है पेरासिटामोल

यात्रा, लाइफस्टाइल, साइंस
नई दिल्ली आपके फर्स्ट एड बॉक्स (First aid box) में पेरासिटामोल (Paracetamol) एक जरूरी दवा के रूप में रहती है। कोविड-19 (Covid-19) से मुकाबले में ये दवा आपके सबसे ज्यादा काम आई है। सिर्फ इतना ही नहीं वैक्सीन लेने के बाद जब आपने बुखार महसूस किया, तो आपके डॉक्टर ने आपको पेरासिटामोल लेने की ही सलाह दी। सिर दर्द (Headache) , बदन दर्द (Body pain) से लेकर बुखार (Fever) तक में हम इस दवा पर भरोसा करते हैं। इतना ज्यादा कि, कभी-कभी तो बच्चों के लिए भी हम इसकी आधी गोली दे देते हैं। पर क्या आप जानती हैं कि कुछ स्थितियों में ये सबसे सुरक्षित दवा भी जोखिमकारक हो सकती है। कोई भी दवा जब वह बिना डॉक्टरी सलाह के या अत्यधिक मात्रा में ली जाती है, तो वह स्वास्थ्य के लिए परेशानियां खड़ी कर सकती है। पेरासिटामोल जिसे अभी तक सबसे सेफ दवा माना जाता है, उसके बारे में हमने एक्सपर्ट से कुछ जरूरी सवाल पूछे। इ...
डियर लेडीज, दो साल में दो बच्चों की मां बनना जोक नहीं, आपकी सेहत से जुड़ा मसला है

डियर लेडीज, दो साल में दो बच्चों की मां बनना जोक नहीं, आपकी सेहत से जुड़ा मसला है

यात्रा, लाइफस्टाइल, साइंस
नई दिल्ली गर्भनिरोधकों का इस्तेमाल सिर्फ सेक्स की आज़ादी नहीं देता, इनका मुख्य उद्देश्य जच्चा-बच्चा को सेहतमंद रखना है। विशेषज्ञ दो गर्भावस्थाओं के बीच एक आदर्श अंतराल (Birth spacing) की वकालत करते हैं। लॉकडाउन के दौरान कई जोड़ों ने बेबी प्लान किए। पर कहीं आप भी उन्हीं में से एक तो नहीं, जिन्होंने दो लॉकडाउन में दो बच्चों को जन्म दिया? अगर ऐसा है, तो आपको अपनी और अपने  बेबी की सेहत के प्रति सजग हो जाना चाहिए। एक कॉमेडी शो का एंकर बहुत गर्व से इस बात को शेयर करता है कि वह दो लॉकडाउन में दो बच्चों का पिता बना। पर जब मां और बच्चे की सेहत की बाती आती है, तो यह एक गंभीर गलती हो सकती है। ...