Wednesday, February 1निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

हाय-तौबा के बावजूद…कोहली की खराब फॉर्म से बेफिक्र था परिवार:बड़े भाई विकास बोले- घर में कभी भी क्रिकेट पर बात नहीं होती थी

ढाका. टीम इंडिया के दिग्गज बल्लेबाज विराट कोहली ने शनिवार को 1214 दिन बाद वनडे शतक (113) जमाया। यह उनका 72वां इंटरनेशनल शतक है। कोहली ने 44 वनडे, 27 टेस्ट और एक टी-20 शतक जमाए हैं।

34 साल के पूर्व भारतीय कप्तान को यह कामयाबी करीब 3 साल की घोर निराशा के बाद मिली है, लेकिन क्या आपको पता है कि जहां क्रिकेट जगत में कोहली की खराब फॉर्म पर हाय-तौबा मची हुई थी, वहीं दूसरी ओर उनका परिवार उनकी फॉर्म से बेफिक्र था। यहां तक कि उनके घर में कभी भी क्रिकेट पर बात नहीं होती थी।

यह बात विराट कोहली के बड़े भाई विकास कोहली ने कही। विकास ने शनिवार को बांग्लादेश के खिलाफ आए शतक के बाद थ विराट के उस दौर को साझा किया, जब विराट आउट ऑफ फॉर्म थे।

कोहली की पारी पर विकास ने कहा- ‘प्रोफेशनल क्रिकेटर है वो…प्रोफेशनल स्पोर्ट्स पर्सन। जिसमें ये सब चलता रहता है, क्रिटिसिज्म वगैरह…उसका फोकस गेम पर है। ऐज अ फैमिली हम एक नॉर्मल एटमॉस्फियर बनाकर रखते हैं और जो चीजें हमारे कंट्रोल में नहीं हैं, हम उस पर डिस्कशन नहीं करते हैं ताकि उसका फोकस अपने गेम और प्रायोरिटीज पर रहे।’

विकास ने कहा, ‘विराट की फॉर्म को लेकर परिवार उनसे कभी बात नहीं करता था। वे जब भी परिवार के साथ होते थे, तो हमारी कोशिश होती थी, उन्हें घर में बेहतर माहौल मिले। इसलिए कभी भी क्रिकेट पर बात नहीं होती थी। बस सिर्फ परिवार के लोग उन्हें अपने खेल पर फोकस करने के लिए प्रेरित करते थे।’

‘क्या परिवार उनकी फॉर्म को नजरअंदाज कर रहा था या आलोचनाओं पर ध्यान नहीं देने की सलाह दे रहा था…’ इस सवाल पर विकास ने कहा, ‘आप इसका खुद ही अर्थ निकाल सकते हो। घर में उनके खेल पर कोई बात नहीं होती थी…बेहतर माहौल होता था।’

आपको याद दिला दें कि एशिया कप से पहले तक विराट कोहली खराब फॉर्म से जूझ रहे थे और चारो ओर उनकी आलोचनाएं हो रही थीं। यह ऐसा समय था जब सीनियर्स तक ने उनका साथ छोड़ दिया था। कपिल देव, गौतम गंभीर और वेंकटेश प्रसाद जैसे कई दिग्गजों ने तो उन्हें टीम से बाहर करने की बात भी कही थी। हालांकि कुछ ने उन्हें सपोर्ट भी किया था। तब टीम के कप्तान रोहित शर्मा और टीम मैनेजमेंट उनके सपोर्ट में आया।