Friday, December 9निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

‘हम दो हमारा एक’ का कानून बने तो 80% विधायक चुनाव लड़ने के अयोग्य हो जाएंगे, 2 से ज्यादा संतान का नियम बने तब भी 50% विधायक बाहर

जयपुर

यूपी में जनसंख्या नियंत्रण कानून की कवायद के बीच राजस्थान के स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा ने एक ही बच्चे का कानून बनाने की पैरवी करके नई बहस छेड़ दी है। इस बीच दैनिक भास्कर ने प्रदेश के विधायकों की स्थिति देखी, जिसमें सामने आया कि अगर एक बच्चे का कानून चुनाव लड़ने के लिए भी लागू हुआ तो राजस्थान के 80 फीसदी से ज्यादा विधायक चुनाव नहीं लड़ पाएंगे। इसके अलावा अगर 2 संतान होने पर चुनाव लड़ने का नियम लागू हुआ तो 50 फीसदी विधायक बाहर हो जाएंगे। वर्तमान में गहलोत मंत्रिपरिषद में अशोक चांदना और शाले मोहम्मद ही ऐसे मंत्री है, जिनके एक-एक बच्चे हैं। जबकि सीएम गहलोत और 11 मंत्रियों की 2-2 संतान हैं। 3 मंत्रियों के 4 जबकि भजनलाल जाटव की 5 संतानें हैं। एक संतान के कानून की पैरवी करने वाले स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा की खुद की दो संतानें हैं।

भास्कर ने प्रदेश के सभी मौजूदा 198 विधायकों की संतानों की संख्या के बारे में विधानसभा को दिए गए रिकॉर्ड और ब्योरे की पड़ताल की। मौजूदा विधानसभा में 99 विधायक ऐसे हैं, जिनकी 2 से ज्यादा संतान हैं। अभी 198 विधायकों में से 66 विधायकों की 2-2 संतान हैं, 20 विधायकों की एक-एक संतान हैं, 6 विधायक अविवाहित हैं, जबकि 9 विधायकों की संतान नहीं हैं। बाकी बचे हुए 97 विधायकों की तीन या इससे ज्यादा संतानें हैं। विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए 2 संतान का प्रावधान लागू होता है तो 50 फीसदी विधायक बाहर हो जाएंगे।

राजस्थान में सांसद-विधायकों को जनसंख्या नियंत्रण कानून से छूट

राजस्थान में तीन दशक से जनसंख्या नियंत्रण कानून लागू है, जिसके तहत राजस्थान में 2 से ज्यादा संतान वालों को सरकारी नौकरी नहीं मिलती, नौकरी लगने के बाद तीसरी संतान होने पर प्रमोशन नहीं मिलता। 2 संतान से ज्यादा वाले पंचायतीराज, शहरी निकाय चुनाव नहीं लड़ सकते। विधानसभा और लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए दो संतान का नियम नहीं है।

विधानसभा में 62 फीसदी से ज्यादा विधायक 50 पार, 50 से कम उम्र के 38 फीसदी विधायक

उम्र के लिहाज से विधानसभा में बहुमत 50 पार के विधायकों का है। 2018 में चुनाव लड़ते वक्त विधायकों के एफिडेविएट में उम्र के ब्यौरे के मुताबिक 77 विधायक ऐसे थे जो 50 साल से कम उम्र के थे। जबकि 63 विधायक 51 से 60 साल की उम्र के बीच के थे। विधानसभा चुनाव को अब ढाई साल का अरसा बीत गया इसलिए उन सबकी उम्र में उतना ही इजाफा हुआ है। विधानसभा में बहुमत 50 पार के विधायकों का ही है, 62 फीसदी से ज्यादा विधायकों की उम्र 50 साल से ज्यादा है। 50 साल से कम उम्र के विधायकों की संख्या 77 थी जिसमें अब और कमी आ गई है।

सबसे उम्रदराज विधायक कैलाश मेघवाल अविवाहित, सबसे कम उम्र के राजकुमार रोत की कुछ माह पहले शादी

विधानासभा में सबसे उम्रदराज विधायक पूर्व विधानसभा अध्यक्ष कैलाश मेघवाल हैं, वे कपासन से बीजेपी के विधायक हैं। कैलाश मेघवाल 86 साल की उम्र पार कर चुके हैं। चौरासी से बीटीपी के विधायक राजकुमार रौत सबसे कम उम्र के विधायक हैं, उनकी उम्र अभी साढ़े 28 साल है। रोत की कुछ माह पहले ही शादी हुई है।

जानिए हमारे विधायकों ने कितना पालन किया परिवार नियोजन का

46 विधायकों की 3 संतानें

46 विधायकों की तीन संतानें हैं, 3 मंत्रियों को मिलाकर कांग्रेस के 22, बीजेपी के 19, 5 निर्दलीय विधायकों के तीन बच्चे हैं।

25 विधायकों के 4-4 बच्चे

तीन मंत्रियों को मिलाकर कांग्रेस के 13, बीजेपी के 10, एक निर्दलीय और एक आरएलपी विधायक के 4-4 बच्चे हैं।

नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया, मंत्री भजनलाल जाटव सहित 10 विधायकों की 5-5 संतान

मंत्री भजनलाल जाटव को मिलाकर कांग्रेस के 3, बीजेपी के सात विधायकों के पांच-पांच बच्चे हैं। नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया भी उनमें शामिल हैं। कांग्रेस विधायक पदमाराम मेघवाल और अमरा सिंह जाटव की 5 संतानें हैं। मेघवाल के 3 बेटे, 2 बेटियां है, जबकि अमर सिंह जाटव की 5 बेटियां हैं।

गहलोत कैबिनेट का पॉपुलेशन कंट्रोल : सीएम और 11 मंत्रियों की 2-2 संतान

सीएम अशोक गहलोत, शांति धारीवाल, रघु शर्मा, गोविंद सिंह डोटासरा, हरीश चौधरी, प्रतापसिंह खाचरियावास, लालचंद कटारिया, भंवरसिंह भाटी, ममता भूपेश, राजेंद्र यादव, टीकाराम जुली, सुभाष गर्ग की 2-2 संतान हैं।

3 मंत्रियों के 4-4 बच्चे

जलदाय मंत्री बीडी कल्ला, सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना और टीएडी मंत्री अर्जुन बामणिया के 4 संतानें हैं। एक मंत्री के 5 संतान मंत्रियों में भजनलाल जाटव की सबसे ज्यादा 5 संतान 3 मंत्रियों की 3-3 संतान खान मंत्री प्रमोद जैन भाया, उद्योग मंत्री परसादीलाल मीणा और वन मंत्री सुखराम बिश्नोई की तीन संतानें हैं।

एक संतान वाले केवल दो मंत्री

खेल मंत्री अशोक चांदना और अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री शाले मोहम्मद की केवल एक संतान है। दोनों मंत्रियों की एक-एक बेटी है।

कांग्रेस विधायक दयाराम परमार और बीजेपी विधायक बाबूलाल खराड़ी के 8-8 बच्चे, भरोसीलाल जाटव के 7, रूपाराम धनदे की 6 संतानें

कांग्रेस विधायक और पूर्व मंत्री दयाराम परमार, बीजेपी विधायक बाबूलाल खराड़ी के सबसे ज्यादा 8-8 संतानें हैं। दयाराम परमार के 6 बेटे, 2 बेटियां हैं। हिंडौन से कांग्रेस विधायक और पूर्व मंत्री भरोसीलाल जाटव की 7 संतानें हैं जिनमें 5 बेटे, 2 बेटियां हैं। जैसलमेर से कांग्रेस विधायक रूपाराम धनदे की 6 संतान हैं जिनमें 1 बेटा, 5 बेटियां हैं।

विधानसभा स्पीकर और मुख्य सचेतक के अलावा कांग्रेस के 7 विधायक एक-एक संतान वाले

विधानसभा स्पीकर सीपी जोशी, सरकारी मुख्य सचेतक महेश जोशी की भी एक-एक संतान है। विश्वेंद्र सिंह, संदीप यादव, विजयपाल मिर्धा, मेवाराम जैन, मीना कंवर, गणेश घोघरा, कृष्णा पूनिया एक संतान वाले विधायक हैं।

10 कांग्रेस विधायकों की 4 संतान

हाकम अली खान, महेंद्रजीत सिंह मालवीय, भंवरलाल शर्मा, बाबूलाल बैरवा, गोपाल मीणा, खिलाड़ीलाल बैरवा, किशनाराम बिश्नोई, अमीन कागजी, अमीन खान, अशोक बैरवा।

19 कांग्रेस विधायकों की 3-3 संतानें

सुरेश मोदी, लाखन मीणा, रामलाल जाट, रामलाल मीणा, रामनारायण मीणा, मुरारीलाल मीणा, मदन प्रजापत, परसराम मोरदिया, दीपेंद्र सिंह शेखावत, निर्मला सहरिया, दीपचंद खैरिया, जोहरीलाल मीणा, जेपी चंदेलिया, गोविंद मेघवाल, गुरमीत कुनर, गंगा देवी, गायत्री त्रिवेदी, इंद्रा मीणा, इंद्राज गुर्जर।

इन 32 कांग्रेस विधायकों की 2 संतान

सचिन पायलट, महेंद्र चौधरी, हेमाराम चौधरी, सफिया जुबेर, हीराराम राम मेघवाल, हरीश मीणा, सुदर्शन सिंह रावत, शकुंतला रावत, वीरेंद्र सिंह, विनोद कुमार लीलावाली, वाजिब अली, रोहित बोहरा, राजेंद्र गुढ़ा, राजेंद्र पारीक, राकेश पारीक, रफीक खान, मनीषा पंवार, महेंद्र बिश्नोई, मंजू मेघवाल, भरतसिंह कुंदनपुर, बृजेंद्र सिंह ओला, राजेंद्र सिंह बिधुड़ी, प्रशांत बैरवा, पानाचंद मेघवाल, पीआर मीणा, जोगिन्दर सिंह अवाना, चेतन डूडी, जाहिदा खान, जितेंद्र सिंह, गिर्राज मलिंगा, जीआर खटाणा, अमित चाचाण।

कांग्रेस के 4 विधायक अविवाहित

जगदीश चंदर, दिव्या मदेरणा, रीटा चौधरी, मुकेश भाकर।

इन 6 कांग्रेस विधायकों के रिकार्ड में संतान नहीं

दानिश अबरार, मनोज मेघवाल, रमेश मीणा, राजकुमार शर्मा, रामनिवास गावड़िया, वेदप्रकाश सोलंकी। रामनिवास गावड़िया की मार्च में ही शादी हुई है।

बीजेपी के 71 विधायकों के फैमिली प्लानिंग की पड़ताल

बीजेपी में एक संतान वाले 7 विधायक

पूर्व सीएम वसुंधरा राजे, राजेंद्र राठौड़, अनिता भदेल, कल्पना देवी, दीप्ति माहेश्वरी, संतोष, संदीप शर्मा।

18 बीजेपी विधायकों की 2-2 संतान

बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया, अभिनेष महर्षि, अविनाश गहलोत, अशोक लाहोटी, चंद्रकांता मेघवाल, चंद्रभान सिंह आक्या, छगनसिंह राजपुरोहित, नारायण सिंह देवल, निर्मल कुमावत, पुष्पेंद्र सिंह, प्रतापसिंह सिंघवी, बलवीर सिंह लूथरा, मंजीत धर्मपाल चौधरी, रामलाल शर्मा, शोभा चौहान, संजय शर्मा, सुमित गोदारा, सुरेश सिंह रावत। 3 संतान वाले 19 बीजेपी विधायक अमृतलाल मीणा, कालीचरण सराफ, गोपाललाल शर्मा, जगसी राम कोली, जोगेश्वर गर्ग, जोराराम कुमावत, ज्ञानचंद पारख, धर्मनारायण जोशी, नरपत सिंह राजवी, नरेंद्र नागर, मदन दिलावर, रामप्रताप कासनिया, ललित कुमार ओसतवाल, वासुदेव देवनानी, विट्ठल शंकर अवस्थी, सुरेंद्र सिंह राठौड़, सूर्यकांता व्यास, सुभाष पूनिया, शोभारानी कुशवाह।

4-4 संतान वाले 10 बीजेपी विधायक

अर्जुनलाल जीनगर, अशोक डोगरा, कालूराम, गोपीचंद मीणा, गोविंद प्रसाद, धर्मेंद्र कुमार मोची, मोहनराम चौधरी, रूपाराम मुरावतिया, हमीर सिंह भायल, हरेंद्र नीनामा 7 बीजेपी विधायकों के 5 संतान नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया, कन्हैयालाल चौधरी, गुरदीप सिंह शाहपीणी, जबर सिंह सांखला, पूराराम चौधरी, प्रतापलाल भील, फूल सिंह मीणा।

6 संतान वाले 3 बीजपी विधायक

पब्बाराम बिश्नोई के 2 बेटे, 4 बेटियां हैं। शंकर सिंह रावत के 3 बेटे, 3 बेटियां हैं। समाराम गरासिया के 4 बेटे, 2 बेटियां हैं।

खराड़ी के 8 कैलाश मीणा की 7 संतानें

बाबूलाल खराड़ी की 8 संताने हैं जिनमें 4 बेटे, 4 बेटियां हैं। गढ़ी विधायक कैलाश मीणा के 2 बेटे, 5 बेटियां कुल सात संतानें हैं।

बीजेपी में 2 विधायक अविवाहित, 2 की अभी संतान नहीं

कैलाश मेघवाल और सिद्धी कुमारी अविवाहित हैं, विधानसभा के रिकॉर्ड में बिहारीलाल बिश्नोई और रामस्वरूप लांबा के कोई संतान नहीं है।

13 निर्दलियों में एक संतान वाले 2 विधायक, 3 वाले 5

निर्दलीयों में महादेव सिंह खंडेला और खुशवीर जोजावर के एक-एक संतान है। 3 निर्दलीयों की 2-2, 5 निर्दलियों की 3-3 संतानें हैं। बलजीत यादव और लक्ष्मण मीणा की संतान नहीं है।

2 संतान वाले 3 निर्दलीय : आलोक बेनीवाल, रमिला खड़िया, संयम लोढ़ा

3 संतान वाले 5 निर्दलीय : ओमप्रकाश हुड़ला, कांतिप्रसाद मीणा, राजकुमार गौड़, रामकेश मीणा, सुरेश टाक

4 संतान वाले 1 निर्दलीय : बाबूलाल नागर

अन्य पार्टियों के विधायकों का फेमिली प्लानिंग भी बाकियों जैसा ही

आरएलपी विधायक पुखराज गर्ग के 4, इंदिरा बावरी के 2 बच्चे हैं। जबकि नारायण बेनीवाल का एक बच्चा है। बीटीपी विधायक रामप्रसाद डिंडोर के 6 बच्चे हैं। जबकि एक बीटीपी विधायक राजकुमार रौत की हाल ही शादी हुई है। सीपीएम विधायक गिरधारीलाल के 3 और बलवान पूनिया के 2 बच्चे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *