Wednesday, February 1निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

सिर कलम, शव के टुकड़े कर वीडियो विदेश भेजा… दिल्ली में दो आतंकियों की करतूत जान हिल जाएंगे

नई दिल्ली. गणतंत्र दिवस से करीब 13 दिन पहले दिल्ली में खौफनाक वारदात का खुलासा हुआ। गुरुवार को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने जिन दो संदिग्ध आतंकियों को पकड़ा, उनकी करतूत जान दहल जाएंगे। दोनों ने किसी शख्स का सिर कलम किया। फिर शव के टुकड़े-टुकड़े कर डाले। पुलिस का दावा है कि आतंकियों ने हत्या से लेकर शव के टुकड़े करने तक का वीडियो बनाया। सूत्रों के अनुसार, उन्होंने यह वीडियो एक करक आॅपरेटिव समेत अपने विदेशी हैंडलर्स को भेजा। जघन्य अपराध का पता तब चला जब पुलिस ने भलस्वा डेयरी के पास से शव के टुकड़े बरामद किए। आतंकियों के मोबाइल से वीडियो भी मिला है। मृतक की पहचान अभी नहीं हो सकी है। एक आॅफिसर के अनुसार, मृतक के एक हाथ में त्रिशूल जैसा टैटू है, उसकी मदद से शिनाख्त की कोशिश जारी है। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल को जहांगीरपुरी में आतंकियों के किराये वाले घर से दो हैंड ग्रेनेड्स भी मिले। दोनों के खिलाफ व एपीए और हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया। शुक्रवार को पुलिस ने दोनों संदिग्धों को अदालत के सामने पेश किया। उन्हें 14 दिन की पुलिस कस्टडी में भेजा गया है।
वीडियो दिखाया तो आतंकियों ने कबूल लिया गुनाह
दिल्ली पुलिस ने मुखबिरी के आधार पर सर्विलांस-बेस्ड आॅपरेशन चलाया था। उसी के दौरान, ये दोनों संदिग्ध पकड़ में आए। आरोपियों की पहचान नौशाद (56) और जगजीत सिंह उर्फ याकूब (29) के रूप में हुई। पुलिस ने दोनों के पास से तीन पिस्टल और 22 कार्ट्रिज बरामद की हैं। पुलिस ने उनके हैंडसेट्स से डेटा रिट्रीव किया और फिर वीडियो दिखाकर पूछताछ की। संदिग्धों ने कथित रूप से अपराध कबूल लिया। उनकी निशानदेही पर पुलिस ने शव बरामद किया। अभी तक सिर, पैर और हाथ बरामद किए गए हैं, धड़ का पता नहीं चला है। हत्या के सिलसिले में एक अलग एफआइआर दर्ज की गई है।
मामले के प्रमुख किरदार कौन हैं?
नौशाद (56), दिल्ली के जहांगीरपुरी का निवासी। आतंकवादी संगठन हरकत-उल-अंसार के सदस्य नौशान को हत्या के दो मामलों में उम्रकैद की सजा हुई थी। नौशाद ने एक्सप्लोजिव ऐक्ट में 10 साल जेल की सजा भी काटी है।
जगजीत सिंह उर्फ याकूब (29), उत्तराखंड के उधम सिंह नगर का निवासी। बंबीहा गैंग के सदस्य याकूब ने उत्तराखंड के एक मर्डर केस में परोल जंप किया। वह गैंगस्टर से आतंकी बने अर्शदीप डल्ला और सुक्खा का गुर्गा है।
अबतक की जांच में क्या पता चला?
पुलिस को संदिग्धों के फोन से एक शख्स का सिर कलम करते हुए वीडियो मिला है। लाश के टुकड़े-टुकड़े करते हुए भी वीडियो बनाया।
उनके घर में खून के निशान मिले हैं, फ्रिज पर भी।
पूछताछ के बाद पुलिस ने उत्तर-पश्चिमी दिल्ली से शव के टुकड़े बरामद किए।
शव डीकंपोज हो चुका है, शिनाख्त नहीं हो सकी। हत्या कम से कम 3-4 हफ्ते पहले हुई।
मृतक के हाथ में त्रिशूल जैसा टैटू बना है जिसके सहारे शिनाख्त की कोशिश हो रही है।
मोबाइल एनालिसिस बताता है कि संदिग्धों ने हत्या का वीडियो विदेशी हैंडलर्स को भेजा ताकि ‘अपनी उपयोगिता साबित कर सकें।’
फ्रिज ले जाते हुए पड़ोसियों ने देखा था…
फोरेंसिक अधिकारियों ने शनिवार को भलस्वा डेयरी स्थित श्रद्धानंद कॉलोनी में उनके किराये के घर को खंगाला। उन्हें फ्रिज और अन्य जगहों से इंसानी खून के अवशेष मिले हैं। इससे यह शक पुख्ता हुआ कि उन्होंने शव के टुकड़े फ्रिज में छिपाए। कुछ पड़ोसियों ने पुलिस को बताया कि उन्होंने कुछ दिन पहले आरोपियों को फ्रिज ले जाते हुए देखा था। पूछने पर बताया कि रिपेयर कराने ले जा रहे हैं। पुलिस दोनों से उनके हथियारों के सोर्स का पता लगा रही है। हैंडसेट्स की फोरेंसिक जांच भी हो रही है ताकि पता चल सके कि उन्होंने वीडियो किसे भेजा।
खालिस्तानी आतंकी से जुड़ा हुआ है जगजीत
आरोपियों में से एक जगजीत सिंह खालिस्तानी टाइगर फोर्स के आतंकी अर्शदीप डल्ला से जुड़ा हुआ है। अर्शदीप कनाडा में है और उसे हाल ही में गृह मंत्रालय ने आतंकी घोषित किया है। अर्शदीप 2017 भारत से भाग गया था। जबकि नौशाद हरकत उल अंसार से जुड़ा है। वो दोहरे हत्याकांड के मामले में कई साल जेल में रहा है। सूत्रों के मुताबिक, दोनों को टारगेट किलिंग का काम सौंपा गया था। एजेंसियां पता लगा रही हैं कि जिस शख्स की हत्या हुई वो कौन था। क्या इसके अलावा भी कोई और टारगेट किलिंग को अंजाम दिया है। खालिस्तानी आतंकियों और पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी के गठजोड़ की भी जांच की जा रही है।