Saturday, December 3निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

सिद्धू मूसेवाला के हत्यारों को खालिस्तान संगठन ने दी थी शरण

चंडीगढ़. मशहूर पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला के हत्यारों को प्रतिबंधित खालिस्तानी संगठन शरण दे रहा है। इस संगठन का नाम है आतंकी संगठन सिख्स फॉर जस्टिस (एसजेएफ)। इन हत्यारों को हरियाणा के अंबाला में सुरक्षित रखने की कोशिश की जा रही है। इस बात का खुलासा पटियाला में गिरफ्तार दो लोगों की फोन रिकॉर्डिंग से हुई है। इन दोनों के फोन में अमेरिका में बसे एसजेएफ के फाउंडर गुरपतवंत सिंह पन्नू से बातचीत रिकॉर्ड है।
निशाने पर केजरीवाल और मान
एसजेफ फाउंडर और दोनों गिरफ्तार व्यक्तियों के बीच बातचीत की कई रिकॉर्डिंग्स मिली हैं। इसमें यह भी सामने आया है कि एसजेएफ स्वतंत्रता दिवस से पहले हरियाणा, पंजाब और दिल्ली में माहौल खराब करने की भी साजिश रच रहा है। इसके तहत दीवारों पर भारत विरोधी नारे लिखने की योजना बनाई गई है। यह लोग उन कार्यक्रमों को खासतौर पर निशाना बनाने की फिराक में हैं, जिसमें अरविंद केजरीवाल और भगवंत शामिल होने वाले हैं। इसके अलावा अंबाला रेलवे स्टेशन भी टारगेट पर है।
स्टेशनों की रेकी की बात
इस रिकॉर्डिंग में पन्नू दो लोगों से अंबाला कैंट और अंबाला रेलवे स्टेशन की बारीकी से डिटेल के बारे में बात कर रहा है। वह आरोपियों से जगह की रेकी करने की बात भी कह रहा है। उसका खास जोर एंट्री और एग्जिट की जगहों के बारे में जानने में है। इसके अलावा वह इन लोगों को मेन रोड का इस्तेमाल न करने की सलाह भी देता है। पुलिस और इंटेलिजेंस के लोगों के मुताबिक यह रिकॉर्डिंग हरविंदर सिंह उर्फ डॉलरऔर प्रेम उर्फ एकाम के फोन से मिली है। यह दोनों सलेपुरा सेखन शंभू के रहने वाले हैं। दोनों को पटियाला पुलिस ने मंदिर के दीवारों पर आपत्तिजनक नारे लिखते हुए गिरफ्तार किया था।
युवाओं को भड़काने की कोशिश
आॅडियोटेप में सामने आया है कि एसजेएफ हरियाणा के युवाओं की भावनाओं को भड़काने की कोशिश कर रही है। उनसे कहा जा है कि आप सरकार के अंडर में पंजाब पुलिस यहां के युवाओं को गैंगस्टर के तौर पर पेश कर रही है और उन्हें मूसेवाला मर्डर केस में फंसा रही है। रिकॉर्डिंग में पन्नू कह रहा है कि देखता हूं वह लोग तुम लोगों को कैसे छू पाते हैं। पुलिस अधिकारियों के मुताबिक इससे पुलिस के उस संदेह की पुष्टि हुई है कि अतिवादी संगठन और गैंगस्टर्स मिलकर काम कर रहे हैं। बातचीत में पन्नू यह भी कह रहा है कि गुजरात से आ रहे तीन-चार लोगों के लिए किराए पर ठिकाना देखना होगा। साथ ही वह जिससे बात कर रहा है उससे ताकीद कर रहा है कि इस बात का जिक्र किसी से भी न करें। यहां तक कि अपने परिवार से भी नहीं।