Thursday, December 8निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

सर्वेक्षण और पुन: सर्वेक्षण के बारे में दिया प्रशिक्षण

हनुमानगढ़ (सीमा सन्देश न्यूज)। डीआईएलआरएमपी योजना के तहत हनुमानगढ़ उपखण्ड के पटवारियों एवं गिरदावरों को गुरुवार को जिला कलक्ट्रेट सभागार में सर्वेक्षण और पुन: सर्वेक्षण के बारे में प्रशिक्षण दिया गया। भू-प्रबंध विभाग के इंस्पेक्टर हनुमान पूनिया की ओर से प्रशिक्षण दिया गया। कानूनगो संघ जिलाध्यक्ष चन्द्रभान ज्याणी ने बताया कि जो तहसीलें आॅन लाइन हो चुकी हैं उनका पुन: रिकॉर्ड और मौके का मिलान सर्वे और रिसर्वे की सहायता से किया जाएगा। इसके तहत ऐसी सरकारी भूमि जिस पर किसी ने अवैध अतिक्रमण किया हुआ है वह चिह्नित हो जाएंगी। उन्हें अतिक्रमणमुक्त करवाया जा सकेगा। जिनका खसरा छोटा है या बड़ा है, माप के अनुसार खसरा मिल सकेगा। नहर या रोड की समस्या रिकॉर्ड और मौके के मिलान के अनुसार दूर हो सकेगी। उन्होंने बताया कि हनुमानगढ़ जिले की सभी सातों तहसीलें आॅन लाइन हो चुकी हैं। 2021 में अधिसूचना जारी हो चुकी है। जमीनों की पैमाइश सैटेलाइट के जरिए की जाएगी। पुराने नक्शे से मिलान होगा तथा उसमें फर्क मिलने पर जमीन का सीमांकन किया जाएगा। ज्याणी ने बताया कि रिकॉर्ड और मौके के मिलान की प्रारंभिक प्रक्रिया शुरू की गई है। प्रदेश के सभी जिलों की तहसीलों को आॅन लाइन करने का कार्य चल रहा है। सर्वे और रिसर्वे का कार्य हनुमानगढ़ सहित प्रदेश के 11 जिलों में शुरू हो चुका है। उन्होंने बताया कि तहसीलों के आॅन लाइन होने से किसानों के विवाद समाप्त हो जाएंगे। उदाहरण के तौर पर कहीं रास्ता मंजूर नहीं है और वहां रास्ता चल रहा है तो वह रास्ता मंजूर किया जाएगा और रिकॉर्ड में दर्ज किया जाएगा। किसी किसान के पास कम जमीन है तो पैमाइश से उस किसान को उसकी पूरी जमीन मिलेगी।