Thursday, February 2निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

सरहद पर बीएसएफ का विशेष सर्च अभियान:हथियारों और नशीले पदार्थों की तस्करी रोकने की कवायद, ग्रामीणों से सजग रहने का किया आग्रह

अनूपगढ. भारत पाकिस्तान अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर सरहद पार से हथियारों और नशीले पदार्थों की तस्करी रोकने की कवायद को लेकर बीएसएफ द्वारा विशेष सर्च अभियान शुरू किया गया है। खास बात यह है कि इस अभियान में स्थानीय नागरिकों को भी शामिल किया गया हैं। पाकिस्तान के नापाक मंसूबो को विफल करने के लिए यह आमजन को जागरूक भी किया जा रहा है। अनूपगढ़ विधानसभा के घड़साना इलाके की सीमा सुरक्षा बल की 127 बटालियन सतराना के कमांडेंट अमिताभ पवार की निगरानी में यह अभियान शुरू किया गया।

सर्च ऑपरेशन चला कर की जा रही छानबीन

कमांडेंट अमिताभ पंवार ने बताया कि सीमावर्ती इलाकों में एंटी ड्रोन एक्सरसाइज एवं सर्च ऑपरेशन करते हुए पूरे इलाके की छानबीन की जा रही है। उन्होंने बताया की इस अभियान में इलाके के सरपंच और ग्राम विकास अधिकारियों इत्यादि को भी शामिल किया गया हैI पाकिस्तान द्वारा भारत की सीमा में ड्रोन के माध्यम से हथियार और नशीले पदार्थ आदि भेजने की लगातार कोशिश की जाती रही है। पाकिस्तान के इन्ही मंसूबों को विफल करने के लिए सीमा सुरक्षा बल ने बॉर्डर के नजदीक रहने वाले ग्रामीणों को सदैव सजग रहने का आग्रह किया हैI

इस अभियान के दौरान सीमा सुरक्षा बल के अधिकारियों ने आमजन से आग्रह किया कि यदि उन्हें बॉर्डर एरिया में अनजान व्यक्ति के आने-जाने एवं संदिग्ध वस्तु मिलने की जानकारी हो तो वे तुरंत इसकी जानकारी बीएसएफ को दें।

इन गांवों में चलाया सर्च अभियान

कमांडेंट अमिताभ पंवार ने बताया कि भारत-पाकिस्तान की अंतरराष्ट्रीय सीमा पर बसे गांव 15 एच,20पी,21 एमडी,13 एमडी,12 जीडी,17 केएनडी,10 बीडी,14बीडी,16 केएनडी,20 केडी सहित अन्य गांवों में सर्च अभियान चलाया गया है।

पाकिस्तान द्वारा ड्रोन के माध्यम से हेरोइन भारतीय सीमा में फेंकी

बता दें कि बुधवार को बीकानेर इलाके में पाकिस्तान द्वारा ड्रोन के माध्यम से हेरोइन भारतीय सीमा में फेंकी गई थी। जिसे सीमा सुरक्षा बल के जवानों ने जब्त कर लिया था। इस मामले के बाद सुरक्षा एजेंसियां सतर्क हो गई है। इससे पहले भी पाकिस्तानी तस्करों द्वारा ड्रोन के माध्यम से भारतीय सीमा के खेतों में हेरोइन फेंकी जाती है और भारतीय तस्कर इस हेरोइन को उठाने के लिए आते हैं। हालांकि सीमा पर तैनात जवान मुस्तैद रहते हैं। सीमा सुरक्षा बल का प्रयास है कि आमजन जागरूक हो और इसी के तहत सीमा सुरक्षा बल ने यह अभियान शुरू किया है।