Thursday, February 2निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

समाज के दबे-कुचले वर्ग को मुख्यधारा में लाने का काम कर रही सरकार

  • राजस्थान अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास आयोग अध्यक्ष (राज्यमंत्री) डॉ. शंकर यादव पहुंचे हनुमानगढ़
    हनुमानगढ़ (सीमा सन्देश न्यूज)।
    राजस्थान अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास आयोग अध्यक्ष (राज्यमंत्री) डॉ. शंकर यादव शुक्रवार को हनुमानगढ़ पहुंचे। यहां उन्होंने जंक्शन स्थित सर्किट हाउस में जनप्रतिनिधियों के साथ बैठक की। साथ ही आमजन को राज्य सरकार की जन कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी दी। इसके बाद परियोजना प्रबंधक के साथ भी बैठक की। इस दौरान मीडियाकर्मियों से बात करते हुए राजस्थान अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास आयोग अध्यक्ष (राज्यमंत्री) डॉ. शंकर यादव ने बताया कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पिछले बजट में राजस्थान की अनुसूचित जाति, जनजाति और पिछड़े वर्ग के लोगों के कल्याण के लिए कई भागीरथी योजनाएं बनाई। उन योजनाओं के माध्यम से समाज के दबे-कुचले व कमजोर तबके को मुख्यधारा में लाने का काम शुरू किया। उसी अनुरूप आयोग के माध्यम से चल रही योजनाओं की क्रियान्विति कैसे-किस रूप में हो, क्या दिक्कतें आ रही हैं, कितने लोगों को जोड़ा जा रहा है, योजनाओं का कितना प्रचार-प्रसार योजनाओं का है, कितने लोगों ने इन योजनाओं का लाभ उठाया है, भविष्य में किस तरह की कल्याणकारी योजनाएं बनाकर अनुसूचित जाति, जनजाति के लोगों को लाभान्वित कर सकते हैं, की श्रृंखला में राजस्थान अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास आयोग अध्यक्ष के रूप में वे प्रदेश के सभी जिलों का दौरा कर रहे हैं। अधिकारियों-जनप्रतिनिधियों से संवाद किया जा रहा है। व्यक्तिगत रूप से वे स्वयं मौके पर भी जा रहे हैं। इन सबके माध्यम से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की मंशा है कि गरीब वर्ग का कल्याण हो और सरकार की योजनाएं आखिरी छोर पर बैठे व्यक्ति तक पहुंचे। उसी अनुरूप लोगों को जोड़ने व लाभान्वित करने का प्रयास किया जा रहा है। इससे पहले सर्किट हाउस पहुंचने पर पूर्व जिला प्रमुख राजेन्द्र मक्कासर, कृषि उपज मंडी समिति के पूर्व अध्यक्ष रामेश्वर चांवरिया, जिला परिषद सदस्य मनीष गोदारा, पार्षद प्रतिनिधि निरंजन नायक आदि ने पगड़ी पहनाकर राजस्थान अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास आयोग अध्यक्ष (राज्यमंत्री) डॉ. शंकर यादव का स्वागत किया।