Saturday, December 3निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

शादी में उठी राजस्थानी भाषा को मान्यता देने की मांग

  • राजस्थानी के बैनर, पोस्टर लगाकर दे रहे हैं मायड़ को मान
    हनुमानगढ़ (सीमा सन्देश न्यूज)।
    गांव बहलोलनगर में सम्पन्न हुए एक शादी समारोह में राजस्थानी भाषा को मान्यता देने की मांग उठी। समारोह में पीलीबंगा निवासी शुभम जांगू का विवाह किरण मील के साथ हुआ। पूनमचंद शर्मा ने अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि हमारे गांव बहलोलनगर में हर काम राजस्थानी भाषा में ही होता है। मील परिवार को साधुवाद है कि उन्होंने अतिथियों का स्वागत करने के लिए राजस्थानी भाषा में स्वागत बैनर बनाए। यहां तक कि जमींदारा टेंट घर के संजय जाखड़ ने भी स्वागत बैनर राजस्थानी में छपवाकर राजस्थानी भाषा को मान्यता दी है। हरीश हैरी ने आपणो राजस्थान आपणी राजस्थानी अभियान के माध्यम से आम आदमी को राजस्थानी भाषा से जोड़ा है। राजस्थानी भाषा को मान्यता मिलने से हमारे रीति रिवाज, संस्कार, संस्कृति बचेगी और नौकरियों में बहुत बड़ा फायदा होगा। पंजाब, गुजरात, महाराष्ट्र, उड़ीसा सहित अनेक प्रदेशों ने नौकरी में बाहर वालों के लिए दरवाजे बंद कर दिए हैं तो हमें भी अपनी भाषा की बाड़ लगानी चाहिए। नवयुवक संस्था के संरक्षक मदनलाल मील ने अतिथियों से कहा कि राजस्थानी भाषा को व्यवहार की भाषा बनाकर सबसे पहले खुद मान्यता देंगे तो सरकार भी मान्यता देगी। उन्होंने युवाओं से अपील की कि वे इस काम को आगे बढ़ाएं। हनुमान प्रसाद जांगू सहित अनेक अतिथियों ने इस कार्य की खूब सराहना की। ग्रामीणों ने भी इस अभियान को सफल बनाने का भरोसा दिया। ग्रामीणों ने कहा कि जो आनंद अपनी मातृभाषा राजस्थानी में आता है वह किसी दूसरी में नहीं आता।