Tuesday, December 6निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

लोकआस्था के महापर्व ‘छठ’ के दूसरे दिन मनाया ‘खरना’

  • आज अस्त होते सूर्य को अर्घ्य देंगे पूर्वांचलवासी
    हनुमानगढ़ (सीमा सन्देश न्यूज)।
    नहाय खाय के साथ शुक्रवार को लोक आस्था का महापर्व ‘छठ’ शुरू हो चुका है। चार दिवसीय यह पर्व 31 अक्टूबर तक चलेगा। इसी क्रम में पूर्वांचलवासियों की ओर से शनिवार को दूसरा दिन ‘खरना’ के रूप में मनाया गया। इस मौके पर छठी मैया को खुश करने के लिए व्रती ने प्रसाद में चार चीजें बनार्इं। व्रती ने सुबह से निर्जला व्रत रखकर शाम को मिट्टी के चूल्हे पर गुड़ और चावल की खीर बनाई। खीर के साथ रोटी भी बनी। रोटी और खीर के साथ मौसमी फल केला शामिल किया गया और मिठाई के साथ एक केले के पत्ते पर रखकर छठ माता को चढ़ाया गया। इसके बाद व्रती ने खुद भी इस प्रसाद को ग्रहण कर परिवार के बाकी लोगों को भी प्रसाद बांटा। पर्व के तीसरे दिन रविवार को संध्या कालीन अर्घ्य और चौथे दिन सोमवार को उदयीमान भगवान भास्कर को अर्घ्य देने के साथ छठ व्रत का समापन हो जाएगा। उधर, पूर्वांचलवासियों के सबसे बड़े त्योहार छठ की तैयारियों के लिए छठ घाट की साफ-सफाई का कार्य पूर्ण कर लिया गया है। शुक्रवार को जंक्शन के सुरेशिया स्थित आईडीएसएमटी कॉलोनी में नगर परिषद की ओर से तैयार छठ घाट की साफ-सफाई के कार्य को अंतिम रूप दिया गया। आयोजन समिति के सदस्य विकास शर्मा ने बताया कि छठ पर्व के लिए नगर परिषद सभापति गणेश राज बंसल, निर्माण समिति अध्यक्ष सुमित रणवां की ओर से हर उचित सुविधा मुहैया करवाने का आश्वासन दिया गया है ताकि पूर्वांचलवासी इस पर्व को अच्छे तरीके से मना सकें। उन्होंने बताया कि नगर परिषद ने पूर्वांचलवासियों को बड़ी सौगात देते हुए यहां घाट का निर्माण करवाया था। सुरेशिया क्षेत्र में रहने वाले पूर्वांचलवासी इस घाट पर आकर पर्व मनाते हैं। इस मौके पर कैलाश दास, गज्जू दास, विनोद कुमार, सरवन कुमार, बादल कुमार, कालूराम, चन्द्रेश्वर दास, अजय कुमार, संजय कुमार, चन्द्रप्रकाश शर्मा, सत्यनारायण आदि मौजूद थे।