Monday, January 30निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

राज्यवर्द्धन बोले- राहुल की पांचवी रिलॉन्चिंग पर 500 करोड़ खर्च:चुनाव नजदीक, देशभर में कांग्रेस पार्टी चलाने के लिए राजस्थान से पैसा जा रहा

जयपुर. बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता और जयपुर ग्रामीण सांसद राज्यवर्द्धन सिंह राठौड़ ने कहा- सुना है 500 करोड़ रुपए राहुल गांधी की रिलॉन्चिंग पर लग रहे हैं। राजस्थान के नौजवानों की नहीं, एक 50 साल के बच्चे की पांचवी बार इमेज रिलॉन्चिंग हो रही है। इस देश के नौजवानों में अपार क्षमता है। लेकिन फिर भी इस देश का एक नौजवान है, इसके ऊपर पांचवी बार रिलॉन्चिंग के लिए 500-500 करोड़ रुपए खर्च हो रहे हैं। ये कांग्रेस पार्टी का दुर्भाग्य है। 2023 का विधानसभा और 2024 का लोकसभा चुनाव नजदीक है। पूरे देश के अंदर कांग्रेस पार्टी को चलाने के लिए पैसा राजस्थान से जा रहा है। इसलिए मैं कह रहा हूं कि ये घोटाले संरक्षण और शह के साथ हो रहे हैं। अधिकारियों पर दबाव बनवाकर उनसे गलत काम करवाए जा रहे हैं।

50 साल के बच्चे की पांचवी बार इमेज रिलॉन्चिंग

राज्यवर्द्धन सिंह राठौड़ जयपुर में प्रदेश बीजेपी मुख्यालय पर मीडिया से रूबरू होकर बोले- राजस्थान की ये हालत हो गई है कि जो पीने का पानी केंद्र सरकार उपलब्ध करवा रही है, वो घर-घर तक पहुंचना सम्भव नहीं हो पा रहा। टेंडर एक-एक साल में खुलते हैं और बंद हो जाते हैं। क्योंकि सरकार को चिन्ता ये नहीं है कि पानी किसे मिल रहा है, किसे नहीं मिल रहा। इन्हें चिन्ता इस बात की है कि टेंडर किसे मिल रहा है और किसे नहीं मिल रहा। हमारी प्रेस कांफ्रेंस से ये लूट कम नहीं होने वाली है। हाल ही में इनके उच्च अधिकारी बड़ी-बड़ी माइन के चक्कर लगा रहे हैं। 2023 का विधानसभा और 2024 का लोकसभा चुनाव नजदीक है। पूरे देश के अंदर यहीं से पैसा जा रहा है। इसलिए मैं कह रहा हूं कि ये घोटाले संरक्षण और शह के साथ हो रहे हैं। अधिकारियों पर दबाव बनवाकर उनसे गलत काम करवाए जा रहे हैं। पुलिस और एसीबी के हाथ बांध दिए गए हैं। राजस्थान के नौजवानों की नहीं, एक 50 साल के बच्चे की पांचवी बार इमेज रिलॉन्चिंग हो रही है।

पूरे देश की कांग्रेस को राजस्थान के घोटाले के पैसे से चलाना पड़ेगा तो ऐसा ही होगा

सरकार के खिलाफ जन आक्रोश बढ़ रहा है। 2 करोड़ लोगों तक जन आक्रोश यात्रा के बीजेपी के कार्यकर्ता पहुंचेंगे। राठौड़ ने कहा- 18 राज्यों में हमारी सरकार है। भ्रष्टाचार का अंत बीजेपी की सरकार ही करेगी। जो फाइलें दबाई जा रही हैं, उनको निकाला जाएगा। इसलिए अधिकारियों को आगाह करते हैं कि अपनी ड्यूटी निभाएं।एसीबी कार्रवाई करती है तो राजस्थान की सरकार ये कानून पास करती है कि अब से एसीबी अगर किसी भी विधायक, जनप्रतिनिधि, बोर्ड चेयरमैन या अधिकारी पर कार्रवाई करती है, तो उसे सरकार की अनुमति लेनी पड़ेगी। अब समझ सकते हैं किस तरह गुंडे-बदमाश कहीं ना कहीं संरक्षण पा रहे हैं। जब पूरे देश की कांग्रेस को राजस्थान के घोटाले के पैसे से चलाना पड़ेगा तो ऐसा ही होगा।

राजस्थान में 73 फीसदी बढ़े भ्रष्टाचार के मामले

बीजेपी प्रवक्ता राज्यवर्द्धन बोले- एनसीआरबी के आंकड़े 2021 के बताते हैं 73 फीसदी राजस्थान में भ्रष्टाचार के मामलों में बढ़ोतरी हुई है। गहलोत के ही करीबी विधायक के बेटे ठेकेदार से 5 लाख रुपए रुपए बिल पास कराने के एवज में मांगते हैं। 16 नवंबर को टीचरों के सामने CM पूछते हैं कि टीचरों के ट्रांसफर में भ्रष्टाचार होता है कि नहीं होता। मुझे लगता है कि वो खुद किसी पार्टी वाले को सुनाने के लिए ही पूछ रहे थे और टीचरों ने भी जमकर हाथ खड़ा करके बोला कि पूरी तरह भ्रष्टाचार होता है। ये राजस्थान के शिक्षकों के साथ हो रहा है। जो आने वाली पीढ़ी को भविष्य का रास्ता दिखाएंगे, उसके साथ ही ऐसा हो रहा है। हाड़ोती से कांग्रेस के ही एक विधायक ने मुख्यमंत्री को चिट्ठी लिखकर ये बताया था कि आपके खनन मंत्री ही खनन माफिया हैं। प्रदेश के राजस्व का नुकसान हो रहा है। पुलिस पर फायरिंग हो रही है। जनता की हत्या हो रही है।

15 बार अलग-अलग पेपर लीक हो चुके

राज्यवर्द्धन राठौड़ ने कहा राजस्थान में अभी तक 15 बार अलग-अलग पेपर लीक हो चुके हैं। विपक्ष और अभ्यर्थियों ने सभी ने CBI जांच की मांग की। लेकिन CBI जांच करवाने से राज्य सरकार ने मना कर दिया। इसका कोई ना कोई तो कारण होगा। क्या कारण है कि राज्य सरकार सीबीआई जांच से घबरा रही है। कहीं ना कहीं इनके खुदके लोग इसमें शामिल हैं। अभी तक जीरो कार्रवाई हुई है। पेपर लीक के ऊपर एक भी कार्रवाई नहीं हुई है। लाखों स्टूडेंट्स का जीवन और भविष्य ताक पर लगा रखा है।

भारत जोड़ो का काम तो बीजेपी कर रही है

बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता राज्यवर्द्धन ने कहा- भारत जोड़ो का काम तो भारतीय जनता पार्टी कर रही है। अपने एक्शन में कर रही है। नॉर्थ-ईस्ट के राज्य जो अपने आप को पिछड़ा हुआ पाते थे। आज केंद्रीय मंत्री लगातार वहां जाते हैं। अपनी योजनाओं को वहां अनाउंस करते हैं। वहां विकास हो रहा है। नॉर्थ-ईस्ट के राज्य पूरी तरह से भारत में शामिल हो रहे हैं। कश्मीर में जो धारा 370 लगाई थी, वो बीजेपी की मोदी सरकार ने हटाई। कश्मीर में जो दहशत छाई हुई थी। उसका सामना करने के लिए भारतीय सेना को पूरी तरह तैयार कर दिया गया है। जहां से भी हमला होगा। उस हमले की जड़ पर वार होगा। देश को जोड़ने की बात तो बीजेपी करती आ रही है। ये जो रिलॉन्चिंग यात्रा है, इसमें हम बीजेपी वाले शामिल नहीं हो सकते। शामिल नहीं होने का कारण है कि हम पूरे देश के नौजवानों की क्षमता पर विश्वास करते हैं। हम चाहते हैं कि अगर इमेज सुधरे तो इस देश के नौजवानों की इमेज सुधरे। जो पीएम मोदी देश की इमेज सुधारने में लगे हुए हैं। लेकिन एक व्यक्ति की इमेज सुधारने में हम शामिल नहीं हो सकते। हमें माफ करिएगा।

जयराम रमेश पर पलटवार- इनकी बातें बड़ीं, काम छोटे

जयराम रमेश के बयान पर राज्यवर्द्धन राठौड़ ने पलटवार करते हुए कहा उन्होंने जो बात कही, वो वैसी है जैसे इंदिरा गांधी ने गरीबी हटाओ का नारा दिया था। इनकी बातें बड़ी होती हैं, काम छोटे होते हैं। जिस प्रदेश में भ्रष्टाचार होता हो, नौकरियां नहीं लग रही हो, वहां स्कूल के बच्चों की ड्रेस कैसे तैयार हो सकती है। एक साल हो गया स्कूली बच्चों की ड्रेस तक तैयार नहीं हुई। ये घोटालों की सरकार है। जिसमें नीचे से ऊपर तक घोटाला हो रहा है। पूरे देश की कांग्रेस को चलाने के लिए अगर राजस्थान की जिम्मेदारी हो जाए, तो ये घोटाले तो पनपेंगे ही । घोटाले बढ़ेंगे। इसमें इनके सभी मंत्री और विधायक शामिल हैं। इन्हीं के मंत्री कहते हैं, दूसरों के लिए पत्र लिखते हैं। इन्हीं के विधायक शिकायतों के लिए पत्र लिखते हैं। अभी तो विपक्ष ने शिकायतों के लिए लिखना भी शुरू नहीं किया। मंत्रियों के नाम लेना भी शुरू नहीं किया। लेकिन इन्हीं के विधायक और मंत्री एक दूसरे के खिलाफ लगातार शिकायतें कर रहे हैं।

मैनिफेस्टो के वादे पूरे नहीं किए

राज्यवर्द्धन बोले- कांग्रेस ने चुनावी वादों में बेरोजगारी दूर करने, बेरोजगारी भत्ता देने, किसान लोन माफ करने, बिजली की रेट कतई नहीं बढ़ाने और रोजगार शुरू करने की बात कही। मुझे लगता है कि राजस्थान के लोग बेहतर तरीके से जानते हैं कि इन सभी वादों पर राजस्थान सरकार पूरी तरह फेल हो गई। पिछले चार सालों में कुशासन और भ्रष्टाचार दो ही काम राजस्थान में हुए हैं। ऐसा पॉसिबल नहीं है कि एक अनुभवी CM होने के नाते इस कुशासन और भ्रष्टाचार पर अंकुश नहीं लगाया जा सकता था। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। इससे यही लगता है कि CM और राजस्थान सरकार का कुशासन और भ्रष्टाचार को लेकर संरक्षण था।

राजस्थान में सरकारी राज है ही नहीं, यहां माफिया राज है। चाहे वो भूमाफिया हो, अवैध खनन माफिया, रेत माफिया, बजरी माफिया हो। जनता को उसे रोकने के लिए आत्मदाह करना पड़ रहा है। लेकिन जनता के साथ में अभी तक कुछ भी नहीं है। बजरी माफिया पुलिस पर बेधड़क बिना किसी खौफ के फायरिंग कर रहा है। पेपर लीक माफिया युवाओं के भविष्य से लगातार खिलवाड़ कर रहा है। कहीं ना कहीं शह और संरक्षण इन सभी को मिल रहा है। राजस्थान गैंगवार के लिए अखाड़ा नहीं है। अगर वर्दी में और सरकार में दम है, तो यूपी जैसा करके दिखाएं। जहां अपराधी खुद जेल जाने की गुहार लगते हैं। पुलिस को खुली छूट देनी चाहिए। सीकर में पिता के शव पर बेटी रो रही है। मगर सरकार के मंत्री नाच रहे हैं। ACB कार्रवाई करती है मगर एक्शन नहीं हो रहा है। सरपंच काम कर रहे हैं, लेकिन उनको दबाया जा रहा है। कागजों में यूनिवर्सिटी चल रही हैं। ये घोटालो की सरकार है।