Saturday, December 10निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

राजस्थान में लगातार बरसात के कहर से खरीफ की फसल हुई तबाह, किसानों में खुशी और गम

भरतपुर
पूर्वी राजस्थान का द्वार भरतपुर जिला कृषि प्रधान जिला माना जाता है। क्योंकि यहां के लोग कृषि और पशुपालन पर ही निर्भर रहते हैं। उद्योग धंधे नहीं होने की वजह से यहां के जीवन यापन का एकमात्र जरिया कृषि ही है। लेकिन मॉनसून सीजन के अंत में कई दिनों से हो रही लगातार बरसात की वजह से खरीफ की फसल चौपट हो गई है । 
मानसून के अंतिम दौर में बरसात का कहर
मानसून की विदाई के समय बरसात ने जिले में लगातार हो रही बरसात से खरीफ की फसल बाजरा को नुकसान ज्यादा नुकसान हुआ है। किसानों ने बाजरे की फसल को काट लिया था मगर खेत में ही छोड़ दिया था सूखने के लिए । लेकिन इसी बीच बरसात का दौर शुरू हो गया इसलिए खेतों में पड़ी बाजरे की फसल नष्ट हो गई । 

कृषि मंडी बंद 
कृषि उपज मंडी को बरसात के कारण बंद रखा गया है | मण्डी अध्यक्ष ने बताया है की लगातार हो रही बरसात से कुम्हेर गेट स्थित कृषि उपज मण्डी में पानी भर गया है जिससे किसानों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। किसानो के साथ मण्डी में व्यापारियों को भी परेशानी हो रही है। जलभराव की स्थिति को देखते हुए आज शनिवार और कल रवि वार को कृषि मण्डी को बन्द रखा जायेगा।