Saturday, December 3निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

राजसमंद में भूमि पर कब्जे को लेकर दबंगों ने की पुजारी परिवार को जिंदा जलाने की कोशिश

उदयपुर। राजसमंद जिले के देवगढ़ में दबंगों ने एक पुजारी दंपती को जिंदा जलाने की कोशिश की गई। आरोपितों ने उनकी दुकान में पेट्रोल बम फैंक आग लगा दी, जिसमें घिरे पुजारी दंपती गंभीर रूप से झुलस गए। दोनों का राजसमंद के जिला अस्पताल में उपचार जारी है। वहीं, पुलिस ने जानलेवा हमले का मामला दर्ज कर आठ आरोपितों को गिरफ्तार किया है।
हमलावरों की संख्या दस से बारह
मिली जानकारी के अनुसार घटना रविवार देर रात की है। घटना में 80 फीसदी से भी अधिक झुलसे पुजारी दंपती की हालत गंभीर बताई जा रही है। हमलावरों की संख्या दस से बारह बताई जा रही है, जिनमें से आठ को पुलिस ने देर रात ही गिरफ्तार कर लिया था।
मामला जमीन के विवाद से जुड़ा
मालूम हो कि यह मामला देवगढ़ क्षेत्र से गुजर रहे नेशनल हाईवे 8 कामलीघाट स्थित एक्सार पेट्रोल पंप के सामने मंदिर की जमीन के विवाद से जुड़ा बताया। दबंग इस जमीन पर कब्जा करना चाहते थे, जो पुजारी की वजह से सफल नहीं हो पा रहे थे। रविवार रात करीब नौ बजे 10-12 लोग हीरा की बस्सी निवासी पुजारी नवरत्न लाल ( 75) पुत्र रंग लाल प्रजापत की दुकान पर पहुंचे। तब वहां उनकी पत्नी जमना देवी (60) भी बैठी थी।
पेट्रोल बम में आग लगाकर दुकान में फैंका
आरोपितों ने आते ही पेट्रोल बम में आग लगाकर दुकान में फैंका, जिससे दुकान में आग फैल गई। घटना के समय पुजारी परिवार खाना खा रहा था। आग में पुजारी दंपती फंस गए थे। जिसमें दोनों बुरी तरह झुलस गए। दुकान से आग की लपटें व धुएं को देखकर आसपास के लोग मौके पर पहुंचे। ग्रामीणों ने पानी और मिट्टी डालकर आग बुझाई और देवगढ़ पुलिस तथा 108 एम्बुलेंस को सूचना दी। ग्रामीणों ने एम्बुलेंस की मदद से दोनों घायलों को देवगढ़ हॉस्पिटल भेजा। इससे पहले आरोपित भाग चुके थे। घटना को लेकर कामलीघाट चौकी पर पुजारी के बेटे ने मामला दर्ज कराया है।
अस्सी फीसदी से अधिक झुलसे, हालात गंभीर
बताया गया कि इस घटना में दंपती अस्सी फीसदी से अधिक झुलसा है। उनका प्रारंभिक उपचार करने वाले डॉ. अनुराग शर्मा का कहना है कि हालात गंभीर होने पर उन्हें प्राथमिक उपचार के बाद जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया गया था।
दबंगों के खिलाफ नहीं हो रही कार्रवाई
पुजारी के बेटे मुकेश प्रजापत का कहना था कि भूमि पर कब्जे को लेकर दबंग उनके पिता को धमकी दे रहे थे। पिछले दिनों ही उन्होंने कामलीघाट चौकी में शिकायत की थी कि दबंग उनके पिता को जान से मारने की धमकी दे रहे हैं। इसके बावजूद पुलिस ने दबंगों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की। यदि पुलिस समय रहते उनके खिलाफ कार्रवाई करते तो उनके माता-पिता पूरी तरह स्वस्थ होते।
आठ आरोपित गिरफ्तार
वहीं, इस मामले में देवगढ़ थाना प्रभारी शैतानसिंह नाथावत का कहना है कि पुलिस ने देर रात तक आठ आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया। अन्य की तलाश जारी है।
संभागीय आयुक्त और आईजी पहुंचे अस्पताल
राजसमंद जिले के देवगढ़ में दबंगों द्वारा जलाकर मारने के प्रयास में गंभीर रूप से झुलसे पुजारी दंपती को उदयपुर मेडिकल कॉलेज की सुपर स्पेशिलिटी ब्लॉक में भर्ती कराया गया है। संभागीय आयुक्त राजेन्द्र भट्ट, पुलिस महानिरीक्षक प्रफुल्ल कुमार पीड़ित पुजारी दंपती के उपचार के बारे में जानकारी लेने अस्पताल पहुंचे। संभागीय आयुक्त भट्ट ने पुजारी के पुत्र मुकेश से बात की और उसे आश्वस्त किया कि उनका बेहतर उपचार होगा। आईजी प्रफुल्ल कुमार ने कहा कि दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा। इस बीच चिकित्सा विभाग के संयुक्त निदेशक डॉ. जुल्फिकार बी. काजी, मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. लाखन पोसवाल एवं एमबी अस्पताल के अधीक्षक आरएल सुमन भी सुपर स्पेशिलिटी वार्ड में पहुंचे। डॉ. पोसवाल ने बताया कि संक्रमण फैलने की आशंका से पुजारी दंपती को अलग-अलग कमरों में भर्ती रखा गया है।
पूनिया बोले, प्रदेश से कानून-व्यवस्था लापता
इस घटना को लेकर भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने राज्यं की कानून-व्यवस्था को लेकर सवाल उठाए हैं। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि एक पुजारी को यूं जिंदा जलाया जाना, स्वयं प्रदेश की सरकार की मौत का परिचायक है। उन्होंने घटना को शर्मनाक और वीभत्स बताया। उन्होंने आगे लिखा कि एक एफआईआर कानून-व्यवस्था के गुमशुदा होने की भी दर्ज होनी चाहिए।