Wednesday, December 7निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

रक्षा उपकरणों के मामले में ‘विश्व गुरु’ बनेगा भारत! विदेशी कंपनियां भी दे रहीं बड़ा संकेत

नई दिल्ली
आजादी के बाद से भारत को चीन और पाकिस्तान से कई बार युद्ध लड़ना पड़ा। भारत हथियारों और अन्य रक्षा उपकरणों के लिए विदेश पर ही निर्भर था। ऐसे में हथियारों की खरीद में बड़ी पूंजी खर्च करनी पड़ी थी। हालांकि अब स्थिति एकदम से बदल रही है। आने वाले समय में दुनियाभर में अग्रणी रक्ष उपकरण का निर्यातक बन सकता है। गुजरात के वडोदरा में प्रधानमंत्री मोदी ने सी295 के प्लांट का उद्घाटन कर दिया है। उन्होंने इस मौके पर कहा कि अगले दो साल में देश का रक्षा उत्पादन 25 अरब डॉलर का हो सकता है। 
पहली बार यूरोप के बाहर तैयार होंगे मालवाहक विमान
वायुसेना में इस्तेमाल होने वाले एवरो HS748 की जगह पर वडोदरा की फैक्ट्री में तैयार होने वाले विमानों को तैनात किया जाएगा। टाटा और एयरबस के जॉइंट वेंचर द्वारा सी295 सामान वाहक विमान तैयार किए जाएंगे। टाटा और एयरबस ने गुजरात सरकार के साथ 22 हजार करोड़ की डील पर साइन किए हैं। रक्षा सचिव अजय कुमार ने कहा था कि पहली बार है जब कि यूरोप के बाहर भी माल वाहक विमान तैयार किए जाएंगे। 

हर हफ्ते बनेगा  एक विमान
प्रधानमंत्री ने कहा था कि सी295MW से भारतीय वायुसेना के क्षमता में बढ़ोतरी होगी। आने वाले समय में भारत यात्री विमानों का भी निर्माण करेगा। उन्होंने कहा कि देश में विमानों के निर्माण के लिए माहौल तैयार हो रहा है। एयरबस के सीसीओ के मुताबिक आने वाले समय में हर हफ्ते एक विमान डिलिवर किए जाने की तैयारी है। उन्होंने कहा, भारत में मेक इन इंडिया से वह काफी प्रभावित हैं और आने वाले समय में नए प्रोजेक्ट पर भी विचार किया जा सकता है।