Friday, February 3निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

ये भूल जाओ तुम सचिन तेंदुलकर के बेटे हो:अर्जुन को युवराज के पिता ने ट्रेनिंग दी, बोले- वो क्रिस गेल जैसा बल्लेबाज बनेगा

दिल्ली. अर्जुन तेंदुलकर… सचिन तेंदुलकर के बेटे। 9 साल की उम्र से क्रिकेट खेल रहे हैं। छोटी-मोटी उपलब्धियां मिल रही थीं, पर डंका बजा 14 दिसंबर 2022 को। जब अर्जुन ने रणजी के डेब्यू मैच में शतक लगाया। ठीक वैसे ही, जैसे पिता सचिन ने 34 साल पहले लगाया था। सचिन ने भी 1988 में डेब्यू पर सेंचुरी मारी थी। महीना भी दिसंबर था।

अर्जुन की इस कामयाबी के पीछे पिता सचिन का अनुभव ही नहीं, कई लोगों की मेहनत है। उनमें से एक हैं देश को युवराज जैसा क्रिकेटर देने वाले योगराज सिंह। युवी के पिता ने रणजी से पहले अर्जुन को ट्रेनिंग दी। उनसे कहा था- भूल जाओ कि तुम्हारे पिता सचिन तेंदुलकर हैं। तुम्हें अपने आपको उभारना है।

सचिन ने युवी को बहुत संभाला, मेरा भी फर्ज था कि अर्जुन की मदद करूं
युवराज सचिन के छोटे भाई की तरह हैं। सचिन ने युवी की बहुत केयर की। मेरा दायित्व है, कि मैं अर्जुन को मदद करूं। गोवा की टीम चंडीगढ़ मेरी अकादमी में आने वाली थी (अर्जुन गोवा से खेल रहे हैं)। सचिन का फोन आया, बोले कि अर्जुन आ रहा है। चंडीगढ़ जितने भी दिन रहेगा, आपको उसे ट्रेन करना है। इसके बाद युवी का भी फोन आया। मैं अर्जुन के साथ 10-12 दिन रहा। हमने साथ में ट्रेनिंग की और जिम भी गए।

लंबा हट्टा-कट्टा है, जब खेल रहा था तो युवी-सचिन की याद आ गई
मैंने अपने सेंटर पर देखा कि अर्जुन आड़ा-टेढ़ा शॉट मार रहा था। सबसे पहले उसे इस तरह का शॉट खेलने से रोका। उससे कहा V में खेलोगे (सामने खेलोगे) और पंच मारोगे। जब वह पंच मार रहा था, यकीन मानो मुझे युवी और सचिन की याद आ रही थी। वह लंबा और हट्टा-कट्टा है। उसकी काबिलियत को निखारने के लिए पूरी तरह से एक आदमी लगाना पड़ेगा।