Monday, January 30निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

मां ने प्रेमी के साथ मिलकर की मासूम की हत्या:पहले बच्ची का गला दबाया, फिर शव को चद्दर में लपेटकर ट्रेन से फेंका

​​​​​​​श्रीगंगानगर. अपनी तीन साल की बेटी की जान खुद मां ने ही ले ली। प्रेमी के साथ मिलकर बेटी की हत्या करने के बाद निर्दयी मां ने उसका शव ट्रेन से फेंक दिया। श्रीगंगानगर जिले के हिंदुमलकोट थाना क्षेत्र में मंगलवार को करीब तीन साल की बच्ची का शव रेलवे ट्रैक के पास मिला था। मामले में पुलिस ने गुरुवार को खुलासा किया। बच्ची की हत्या उसकी मां ने ही की और फिर प्रेमी के साथ मिलकर उसका शव चादर में बांधकर ट्रेन से फेंक दिया। आरोपियों का इरादा शव नहर में फेंकने का था लेकिन शव नहर में नहीं गिरकर पुल के पास गिर गया। पुलिस ने आरोपी मां और उसके प्रेमी को गिरफ्तार कर लिया है।

यह था मामला

हिंदुमलकोट पुलिस को 17 जनवरी को लक्ष्मीनारायण वितरिका के रेलवे ट्रैक के पास एक बच्ची का शव मिला था। इस शव को ट्रेन से फेंकने की आशंका थी। इस पर पुलिस ने तलाश शुरू की। एसएचओ संजीव कुमार ने बताया कि उन्हें एक दो दिन पहले सोशल मीडिया पर एक वीडियो नजर आया। इसमें एक बच्ची नजर आ रही थी। इस बच्ची का चेहरा बिल्कुल मृतक बच्ची जैसा ही होने पर इसी को ध्यान में रखकर तलाश शुरू की गई। वीडियो डालने वाले का पता लगाकर संबंधित बच्ची के रहने की जगह का पता किया तो यह रेलवे स्टेशन के आसपास शास्त्री बस्ती में मिला। इस पर शक पुख्ता हो गया। उसकी मां के बारे में पता किया तो वह घर से गायब मिली। इस पर उसकी तलाश कर सख्ती से पूछताछ की तो उसने सच्चाई बयान कर दी।

यूं दिया वारदात को अंजाम

उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले के बरगदेई इलाके की सुनीता देवी पत्नी बिंदेश्वरी उर्फ दिनेश कुमार शहर के शास्त्री बस्ती इलाके में रेलवे स्टेशन के पास रहती है। उसने अपने पति दिनेश कुमार को छोड़ रखा है और वह पांच माह से सन्नी उर्फ माल्टा के पास रहती है। सुनीता के पांच बच्चे हैं। इनमें तीन दिनेश के पास हैं और दो बच्चियां खुशबू (4) और किरण (3) सुनीता के पास हैं। सुनीता और सन्नी पिछले कुछ दिन से दोनों बच्चियों को मारने की फिराक में थे। सोलह जनवरी की रात को सुनीता ने किसी समय बच्ची किरण का गला घोंटा और उसे मार दिया। इसके बाद सुनीता और माल्टा उसका शव एक चद्दर में बांधकर पास ही रेलवे स्टेशन चले गए। वहां रात को रुकने के बाद दोनों सुबह छह बजकर दस मिनट पर दिल्ली जाने वाली ट्रेन में बैठ गए। फतूही से कुछ आगे निकलने पर दोनों ने बच्ची को फतूही के पास नहर में फेंकने की कोशिश की लेकिन शव नहर के पास गिर गया। एसएचओ संजीव चौहान ने बताया कि आरोपी सोशल मीडिया के जरिए पकड़ में आए हैं। दोनों ने अपराध स्वीकार किया है। दोनों से पूछताछ की जा रही है।