Friday, February 3निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

मरीज की मौत पर हंगामा:प्राइवेट अस्पताल में मौत के बाद भी मरीज को भर्ती रखने का आरोप, परिजनों के साथ भाजपा नेताओं का हंगामा

बीकानेर. बीकानेर में रानी बाजार क्षेत्र में स्थित एक प्राइवेट अस्पताल में मरीज की मौत के बाद परिजनों ने हंगामा किया और बाद में भाजपा नेता भी मौके पर पहुंच गए। शनिवार रात हुए इस हंगामे के बाद कोटगेट पुलिस को मौके पर पहुंचना पड़ा। रविवार को भी भाजपा नेता इस मामले में प्रशासनिक अधिकारियों से मिलने और विरोध प्रदर्शन करने की योजना बना रहे हैं।

आरोप है कि रानी बाजार स्थित एपेक्स हॉस्पिटल में भर्ती मरीज की मौत के बाद भी भर्ती रखा गया। परिजनों से पचास हजार रुपए का बकाया लेने के बाद ही बताया गया कि मरीज की मौत हो गई है। अस्पताल चिरंजीवी योजना के तहत रजिस्टर्ड होने के बाद भी परिजनों से इलाज का रुपया लेने का आरोप लगाया जा रहा है। यहां हीरालाल नामक व्यक्ति की मां भर्ती थी। जिसकी मौत हो गई। इसके बाद भी परिजनों काे नहीं बताया गया। शाम करीब साढ़े पांच बजे पचास हजार रुपए जमा करवाने के कुछ देर बाद ही हीरालाल को बताया गया कि उनकी मां की मौत हो गई है। परिजनों का आरोप है कि फीस जमा करवाने से पहले ही मरीज की मृत्यु हो गई थी, जिसे अस्पताल प्रशासन ने छिपाया है। ये भी आरोप है कि चिकित्सक ने परिजनों से दुर्व्यवहार किया। बवाल बढऩे पर कोटगेट पुलिस भी मौके पर पहुंची और मामले की जांच कर शांत करवाने का प्रयास किया।

रांका हुए सक्रिय, कलक्टर से बात

यूआईटी के पूर्व चैयरमेन महावीर रांका घटना की जानकारी मिलने के साथ ही मौके पर पहुंच गए। जिला कलक्टर से फोन पर बात कर उन्हें अवगत करवाया कि एपेक्स हॉस्पिटल चिरंजीवी योजना में रजिस्टर्ड है फिर भी मरीज को लाभ नहीं दिया गया। बताया जा रहा है कि अस्पताल प्रशासन चिरंजीवी योजना का मरीजों को पूर्णत: लाभ नहीं दे रहा है। जिस मरीज की मौत हुई, वो मरीज चिरंजीवी योजना का पात्र भी था, फिर भी उसे योजना का लाभ नहीं दिया गया। कलक्टर भगवती प्रसाद कलाल ने जांच का आश्वासन दिया है।