Thursday, December 8निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

मनीष बनकर लड़कियों को फंसाता है शाहिद

  • कमरे पर बुलाकर रेप की कोशिश, मोबाइल कंपनी का मैनेजर कई शहरों में नाम बदलकर रहा
    भीलवाड़ा.
    कॉलेज गर्ल को कमरे पर बुलाकर रेप की कोशिश करने वाला युवक 2 दिन के लिए पुलिस रिमांड पर है। पुलिस ने उसकी कुंडली खंगाली तो कई चौंकाने वाली जानकारी मिली। सोशल मीडिया पर मनीष सेन बनकर भोली-भाली युवतियों को फंसाने वाले युवक का असली नाम मोहम्मद शाहिद गोरी है। उसने अपने आधार कार्ड सहित अन्य दस्तावेजों में हेरफेर करके नाम मनीष कर रखा है। उसके कमरे की तलाशी में तमाम ऐसे दस्तावेज मिल हैं। एक मोबाइल कंपनी में बतौर मैनेजर काम करने वाला यह युवक पाली के बांगड़ कॉलेज की छात्र राजनीति में भी सक्रिय रहा है। वह चुनाव जीतकर संयुक्त महासचिव तक बन चुका है। आगे की पूछताछ में कई अन्य अहम जानकारियां मिलने की उम्मीद है।
    4 दिन पहले किया गया था गिरफ्तार
    कोतवाली थाना प्रभारी मुकेश कुमार वर्मा ने बताया कि कॉलेज गर्ल ने सोशल मीडिया पर युवक मनीष सेन से दोस्ती होने की बात बताई थी। 18 जुलाई उसके बुलाने पर वह उसके कमरे पर चली गई। आरोप है कि मौके का फायदा उठाकर उसने नशीला पदार्थ पिलाकर रेप का प्रयास किया। चिल्लाने पर आस-पड़ोस के लोग आए और युवक की धुनाई कर दी। बाद में पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया।
    आधार कार्ड को एडिट कर नाम बदला
    थाना प्रभारी ने बताया कि युवक के कमरे की तलाशी में फर्जी कागज और आधार कार्ड मिले हैं। छात्रा ने युवक का नाम मनीष सेन बताया था। मगर युवक के कमरे की तलाशी में पाली के बादशाह झंडा निवासी मोहम्मद शाहिद गोरी नाम से कई पेपर मिले। फर्जी आधार कार्ड में फोटो शाहिद का और नाम मनीष सेन लिखा था। कड़ाई से पूछताछ में उसने सारा राज उगल दिया है। मकान मालिक तक को उसने सच्चाई नहीं बताई थी। मनीष सेन बताकर ही उसने पंचवटी इलाके में कमरा किराए पर लिया था। वह पाली का रहने वाला है। उसका असली नाम शाहिद गोरी है। आधार कार्ड को खुद उसने एडिट कर नाम बदल मनीष सेन कर दिया है।
    बांगड़ कॉलेज से लड़ा छात्रसंघ चुनाव
    शाहिद ने पुलिस को बताया कि वह भीलवाड़ा में एक मोबाइल कंपनी में मैनेजर है। पिछले 10 सालों में पाली और भीलवाड़ा में अलग-अलग नाम रखकर रह रहा था। 2014-15 में बांगड़ कॉलेज से छात्रसंघ चुनाव में संयुक्त महासचिव का चुनाव भी जीता था। इसके अलावा ठरवक पाली में वह सक्रिय कार्यकर्ता रहा है।