Friday, June 2निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

मंत्री जोशी बोले-मेरा बेटा दुष्कर्म कर ही नहीं सकता:कहा- रोहित के ऐसे संस्कार नहीं हैं; FIR करने से किसी को नहीं रोका

जयपुर

जलदाय मंत्री महेश जोशी के बेटे रोहित जोशी पर 23 साल की युवती ने दुष्कर्म का केस दर्ज कराया है। इस बीच पीड़िता ने रोहित पर और भी कई गंभीर आरोप लगाए हैं। इन आरोपों में कितनी सच्चाई है, इसे लेकर मंत्री से बातचीत की गई। बातचीत में मंत्री ने दावा किया कि मेरा बेटा किसी के साथ दुष्कर्म नहीं कर सकता। जांच में पूरी बात स्पष्ट हो जाएगी।

पीड़िता का कहना है कि उसके साथ जबरदस्ती हुई, डराया-धमकाया भी गया?
मुझे मेरे बेटे पर विश्वास है कि वह किसी के साथ बलात्कार कर ही नहीं सकता। फिर भी आरोपों की जांच हो जाएगी। मैं चाहता हूं कि आरोपों की गहराई और निष्पक्षता के साथ जांच हो। अपने आप सच्चाई पूरी तरह जनता के बीच सामने आएगी।
क्या रोहित ने पीड़िता को ‘भंवरी’ बनाने जैसे शब्दों का उपयोग किया?
रोहित ऐसे नेचर का लड़का नहीं है। इस तरह के उसे संस्कार भी नहीं दिए गए हैं। पुलिस जांच में पूरी बात स्पष्ट हो जाएगी।
आप मंत्री हैं, अपना बेटा होने के नाते क्या आपने जयपुर में एफआईआर दर्ज नहीं होने दी?
मुझे तो पता भी नहीं है कि एफआईआर दर्ज कराने की किसी ने कोशिश भी की है। मैंने किसी को भी एफआईआर दर्ज कराने से नहीं रोका। पुलिस भी एफआईआर दर्ज कराने से किसी को मना नहीं करती।

पीड़िता का आरोप है कि वो लोग सरकार में हैं, इस वजह से मुझे जान का खतरा है।
मैं पीड़िता और उसके परिवार से कभी भी नहीं मिला और न ही मैंने उसका चेहरा देखा है। सरकार में होने के नाते मेरी जिम्मेदारी बनती है कि राजस्थान का हर नागरिक सुरक्षित रहे। सरकार में होने के नाते ही मेरी यह भी जिम्मेदारी बनती है कि हर व्यक्ति के साथ न्याय हो।
पीड़िता ने आरोप लगाया है कि आप मंत्री पद का दुरुपयोग करके जांच प्रभावित कर सकते थे, इस वजह से ही उसने दिल्ली में एफआईआर दर्ज कराई है।
मैंने अपने जीवन में कभी भी मंत्री या विधायक रहते हुए पद का दुरुपयोग नहीं किया। मैं पुलिस को कभी किसी के साथ अन्याय करने के लिए फोन नहीं करता। हमेशा पुलिस को निष्पक्ष जांच करके न्याय के लिए ही बोला है।

क्या रोहित ने आपके मंत्री पद का दुरुपयोग किया?
पूरा जयपुर जानता है कि वह मेरे नाम का उपयोग नहीं करता। रोहित अपने से बड़ों का सम्मान करता है। मैं न्याय और सच्चाई के साथ हूं। कभी अन्याय का साथ नहीं दिया।