Wednesday, February 1निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

बेरोजगारों को नौकरी दिलाने का झांसा देने वाला ठग गिरफ्तार

  • 15 लाख रुपए से अधिक की ठगी से जुड़ा है मामला, आरोपी पीसी रिमांड पर
    हनुमानगढ़ (सीमा सन्देश न्यूज)।
    पशुपालन विभाग में पशुधन सहायक व चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी पद पर नौकरी लगाने का झांसा देकर नौ जनों से 15 लाख रुपए से अधिक की ठगी करने के मामले में जंक्शन पुलिस ने एक आरोपी को शनिवार को गिरफ्तार किया। गिरफ्तार आरोपी की पहचान दितिन शर्मा (40) पुत्र देशराज शर्मा निवासी वार्ड 60, सुरेशिया के रूप में हुई। वह पूर्व में होमगार्ड में नौकरी करता था। पुलिस ने शनिवार को आरोपी को न्यायालय में पेश कर पीसी रिमांड मंजूर करवाया। रिमांड अवधि के दौरान पुलिस आरोपी से ठगी गई रकम की बरामदगी के प्रयास करेगी। जांच अधिकारी हैड कांस्टेबल जसवंत सिंह ने बताया कि 17 सितम्बर को रज्जब खान (26) पुत्र सलीम निवासी वार्ड 11, भट्ठा कॉलोनी, जंक्शन ने मुकदमा दर्ज करवाया था कि वह शिक्षित बेरोजगार व्यक्ति है। दितिन शर्मा उसका जानकार है। मई 2021 में दितिन शर्मा ने कहा कि उसकी जानकारी एवं सैटिंग है। राजस्थान सरकार के पशुपालन विभाग में पशुधन सहायक व चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी की भर्ती आई थी लेकिन वह भर्ती स्थगित हो गई है। चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी व पशुधन सहायक के काफी पद रिक्त पड़े हैं। वह उसे व उसके जानकारों को नौकरी दिलवा सकता है। एक व्यक्ति को नौकरी दिलवाने के लिए 3 लाख 50 हजार रुपए लगेंगे। तब उसने दितिन शर्मा के कहे अनुसार अपने दोस्त राहुल कुमार, महेन्द्र, धर्मंेद्र, जितेश, नीरज, सुरेन्द्र, संजय, अरविन्द से बात की तो सभी ने दितिन शर्मा की बातों पर विश्वास कर सभी थोड़े-थोड़े रुपए एकत्रित कर 15 लाख 7 हजार 4 रुपए दितिन शर्मा को अदा कर दिए। दितिन शर्मा ने कूटरचित कागजात तैयार कर उसे व उसके दोस्तों को डाक के जरिए भेज दिए। जब उसे इस कूटरचना व धोखाधड़ी का पता चला तो दितिन शर्मा से रुपए वापस मांगे। पहले तो दितिन शर्मा यह कहता रहा कि वह सभी को नौकरी लगवा देगा। कुछ समय बाद कहने लगा कि वह उनके रुपए वापस दे देगा। अब दितिन शर्मा ने उसे कहा कि उसने तो धोखाधड़ी कर ठगी करनी थी। इसके बाद उन्होंने राहुल कुमार पुत्र अमृतलाल, जाकिर पुत्र मोहम्मद सलीम व जहीर खान पुत्र अलाउदीन की उपस्थिति में दो-तीन बार पंचायत की। पंचायत में भी दितिन शर्मा ने यही कहा कि उसने तो ठगी मारनी थी। रज्जब खान ने बताया कि रुपयों के लेनदेन के वक्त दितिन शर्मा ने उससे व उसके दोस्तों से खाली स्टाम्प पर हस्ताक्षर भी करवाए थे। इन स्टाम्प का भी दुरुपयोग होने की प्रबल सम्भावना है। जांच अधिकारी के अनुसार रिमांड अवधि के दौरान आरोपी से वह स्टाम्प भी बरामद किए जाएंगे।