Wednesday, November 30निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

बेटी के नामकरण पर पार्टी का आयोजन कर पेश की मिसाल

  • बनाए गए अलग-अलग प्रकार के पकवान, महिलाओं ने किया नाच-गाना, बजाई थाली
    हनुमानगढ़ (सीमा सन्देश न्यूज)।
    आधुनिक युग में बेटियों की गर्भ में ही भ्रूण हत्या कर दी जाती है। हालांकि सरकार ने कानून बनाकर इस पर रोक लगा दी है। लेकिन अब भी कुछ लोग चोरी-छिपे भ्रूण हत्या जैसे घिनौने कार्य कर रहे हैं। यह बात किसी से छिपी नहीं है कि आज बेटियां भी बेटों से कम नहीं। इन सबके बीच टाउन के वार्ड 45, बरकत कॉलोनी निवासी सुनील कुमार ने अपनी नवजात बिटिया के नामकरण के शुभ मौके पर पार्टी का आयोजन कर मिसाल पेश की। इस मौके पर अलग-अलग तरह के पकवान बनाए गए। थाली बजाई गई। पूरे मोहल्ले में लड्डू बांटे गए। परिवार की महिलाओं ने जमकर नाच-गाना किया। बेटी के नामकरण के मौके पर हुए इस कार्यक्रम की हर किसी ने सराहना की। सुनील कुमार ने बताया कि उसकी पत्नी पूनम ने पिछले दिनों बेटी को जन्म दिया। तब घर में लक्ष्मी के जन्म लेने की खुशी में थाली बजाई गई। आस-पड़ोस में मिठाई बांटी गई। साथ ही बेटी के नामकरण पर पार्टी करने का निर्णय लिया गया। सुनील कुमार के अनुसार वे स्वयं व परिवार के सदस्य बेटी-बेटे को एक बराबर मानते हैं। क्योंकि आज बेटियों भी बेटों से किसी क्षेत्र में कम नहीं हैं। ऐसे सैकड़ों उदाहरण हैं जिनमें बेटियों ने उच्च मुकाम हासिल कर अपने माता-पिता का नाम रोशन किया है। उन्हें भी उम्मीद है कि उसकी बेटी भी बड़ी होकर पूरे परिवार व समाज का नाम रोशन करेगी। वहीं सुनील कुमार के परिवार की महिला लालीदेवी ने कहा कि आज बेटों से बेटियां दो कदम आगे हैं। उन्हें खुशी है कि घर में लक्ष्मी पैदा हुई है। इस खुशी में यह कार्यक्रम किया गया है। वे लड़का-लड़की में कोई भेद नहीं समझते। दोनों को एक समान समझते व रखते हैं। साथ ही कहा कि उनके मोहल्ले में पहले इस तरह का आयोजन बेटी के जन्म पर नहीं देखा। स्वयं के घर में यह आयोजन होता देख बड़ी खुशी हुई है। इस दौरान मोहल्ले के कई नागरिक मौजूद रहे। हर किसी ने बेटा-बेटी में भेद खत्म करने के लिए आयोजित इस कार्यक्रम को सराहा।