Wednesday, February 1निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री 14 को मेडिकल कॉलेज का करेंगे लोकार्पण

  • 14 अक्टूबर के ऐतिहासिक पल के साक्षी बने
    मेरे जीवन का लक्ष्य था मेडिकल कॉलेज, जो पूरा हुआ: गौड़
    श्रीगंगानगर।
    विधायक राजकुमार गौड़ ने मंगलवार को प्रशासनिक व चिकित्सा अधिकारियों के साथ मेडिकल कॉलेज का 14 अक्टूबर को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा लोकार्पण के प्रस्तावित कार्यक्रम को लेकर मेडिकल कॉलेज में चल रही व्यवस्थाओं का जायजा लिया व आवश्यक निर्देश दिये।
    गौड़ ने कहा कि मेडिकल कॉलेज का निर्माण मेरे जीवन का एक लक्ष्य था, जो पूर्ण होने जा रहा है। इस क्षेत्र के लिये मेडिकल कॉलेज मील का पत्थर साबित होगा। इस क्षेत्र का चहुमुखी विकास होगा व रोजगार की अपार संभावनाएं बढ़ेगी। रोगियों को उच्च स्तरीय चिकित्सीय सुविधाएं भी इसी मेडिकल कॉलेज में मिलने लगेगी।
    240 बैड का नया अस्पताल भवन बनेगा
    गौड़ ने कहा कि मैनें जो विकास के वादे किये थे, वो पूरे किये है। जो कहा, वह किया तथा जो किया, वही आमजन को बताया है। राजकीय आयुर्विज्ञान महाविद्यालय श्रीगंगानगर में 240 बैड का नया अस्पताल भवन बनेगा, जिससे बैड की संख्या 760 से भी ज्यादा हो जायेगी। श्रीगंगानगर जिले के अलावा हरियाणा, पंजाब व आसपास के क्षेत्र के नागरिकों को चिकित्सा सुविधा मिलेगी।
    उन्होंने कहा कि 9 मई 2021 को मुख्यमंत्री द्वारा शिलान्यास किया गया था, इतने कम समय में पूरी निष्ठा के साथ कार्य करवाकर इसे मेडिकल कॉलेज का रूप दिया गया है। उन्होंने कहा कि आमजन का सहयोग व देवी-देवताओं के आशीर्वाद से यह परियोजना सफल हुई है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री द्वारा किये जा रहे लोकार्पण के स्वर्णिम अवसर में भागीदारी निभाएं। उन्होंने कहा कि इस लोकार्पण कार्यक्रम में शहरी व ग्रामीण क्षेत्र के अधिक से अधिक नागरिक पहुंचकर कार्यक्रम की शोभा बढ़ाए व भागीदार बनें। गौड़ ने कहा कि मेडिकल कॉलेज के अलावा कृषि महाविद्यालय, नर्सिंग कॉलेज व सड़कों का विकास अपने आप में अनुकरणीय कार्य है।
    इस अवसर पर अतिरिक्त जिला कलक्टर प्रशासन डॉ. हरीतिमा, अतिरिक्त जिला कलक्टर सर्तकता उम्मेद सिंह रतनू, पीएमओ डॉ. बलदेव सिंह, आरएसआरडीसी के परियोजना निदेशक भीमसेन स्वामी व विशाल गौड़ सहित कार्यकारी एजेंसी के अधिकारी व चिकित्सक उपस्थित थे।