Friday, February 3निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

पेपरलीक मास्टरमाइंड की पत्नी टूटते घर को देखने पहुंची:अधिकारियों से बोली- मुझे अंदर जाने दो; दूसरे दिन भी चल रहा बुलडोजर

जयपुर. सीनियर टीचर भर्ती परीक्षा का पेपर लीक करने के मास्टरमाइंड भूपेन्द्र सारण के मकान पर शनिवार को भी जयपुर विकास प्राधिकरण (जेडीए) की कार्रवाई जारी है। आज सारण की पत्नी एलची सारण भी अपने टूटते घर को देखने पहुंची। उसने अधिकारियों से गुहार लगाई कि उसे एक मिनट के लिए अंदर जाने दें। जिससे वो अपना सामान निकाल सके।

शुक्रवार देर शाम कार्रवाई रुकने के बाद शनिवार सुबह 7 बजे वापस टीम मौके पर पहुंची। जहां इस बार बुलडोजर के साथ-साथ एक पोकलेन और 2 ड्रिल मशीन लगाकर मकान को ध्वस्त करने की कार्रवाई शुरू की गई।

जेडीए के एन्फोर्समेंट विंग के चीफ रघुवीर सैनी ने बताया कि हमें कोर्ट ने जो आदेश दिए है उसके मुताबिक अवैध हिस्से को आज तोड़ देंगे। इसमें फ्रंट एरिया में 15 फीट का हिस्सा अवैध है, जबकि पीछे 8.3 फीट का हिस्सा।

उन्होंने बताया कि हमारी कोशिश है कि आज पूरे अवैध हिस्से को तोड़ दें, लेकिन शाम होने तक अगर काम शेष रहा तो कल सुबह फिर कार्रवाई की जाएगी।

मास्टरमाइंड भूपेंद्र सारण और सुरेश ढाका दोनों अब तक फरार हैं और पुलिस अब तक इनके सही ठिकाने का पता नहीं लगा सकी है।

मास्टरमाइंड भूपेंद्र सारण और सुरेश ढाका दोनों अब तक फरार हैं और पुलिस अब तक इनके सही ठिकाने का पता नहीं लगा सकी है।

जेल से छूटकर सीधी यहां पहुंची

जेल से छूटने के बाद भूपेन्द्र सारण की पत्नी एलची सारण और गोपाल सारण की पत्नी इंदूबाला सारण आज अपने परिजनों संग रजनी विहार स्थित निवास पर पहुंची। यहां उन्होंने जेडीए अधिकारियों से कुछ देर कार्रवाई रोकने और अपने जरूरी सामान घर से निकालने का आग्रह किया। इसके बाद जेडीए ने कुछ देर के लिए कार्रवाई को रोक दिया। इस बीच सारण की पत्नी ने अपने जरूरी सामान घर से निकाले और फिर कार्रवाई शुरू की गई।

एलची सारण जब मकान के अंदर गई तो जेडीए के अधिकारी और पुलिसवाले भी वहां खड़े रहे।

एलची सारण जब मकान के अंदर गई तो जेडीए के अधिकारी और पुलिसवाले भी वहां खड़े रहे।

10 जनवरी को दिया था नोटिस

10 जनवरी को जेडीए ने जयपुर के अजमेर रोड स्थित रजनी विहार के मकान संख्या 67-सी पर अवैध निर्माण पाए जाने पर धारा 32 का नोटिस जारी किया था। इस नोटिस का जवाब 12 जनवरी तक देने के लिए कहा था।

जवाब पेश नहीं होने पर जेडीए ने लीगल नोटिस जारी करते हुए 12 जनवरी को शाम 5 बजे तक मकान खाली करने के लिए कहा था। इस नोटिस को भूपेन्द्र सारण और उसके परिजनों ने कोर्ट में चैलेंज किया था। कोर्ट में कल सुनवाई होने के बाद अपीलार्थी की याचिका को खारिज करते हुए जेडीए को अवैध हिस्सा ध्वस्त करने के आदेश दिए गए थे।

ट्रिब्यूनल में कहा, हमने बना बनाया मकान खरीदा
इससे पहले जेडीए की ओर से जो धारा 32 का नोटिस इस निर्माण को तोड़ने के लिए दिया गया था, उसे भूपेन्द्र सारण और गोपाल सारण दाेनों की पत्नियों ने अपील करते हुए जेडीए ट्रिब्यूनल में चैलेंज किया था।

इसमें इन्होंने तर्क दिया था कि ये अवैध निर्माण उन्होंने नहीं किया। उन्होंने मकान साल 2017 में खरीदा था और तब ये निर्माण पहले से हुआ था। इस पर ट्रिब्यूनल में जब क्रय पत्रों की जांच की तो उसमें ये कहीं स्पष्ट नहीं हुआ कि मकान पहले से बना हुआ है।

ड्रिल मशीन से भूपेंद्र सारण के घर में तोड़फोड़ करते जेडीए के कर्मचारी।

ड्रिल मशीन से भूपेंद्र सारण के घर में तोड़फोड़ करते जेडीए के कर्मचारी।

तीन माह में अवैध निर्माण हटाने का दिया जवाब
भूपेन्द्र सारण ने जेडीए की ओर से दिए गए नोटिस के जवाब में अवैध निर्माण होना स्वीकार किया। सारण की तरफ से इस निर्माण को 3 माह में हटाने के लिए कहा गया। वहीं, भूपेन्द्र सारण और गोपाल सारण की पत्नियों एलची सारण और इंदूबाला की तरफ से ट्रिब्यूनल को अलग से जवाब पेश किया गया। जिसमें उन्होंने निर्माण को 2017 से पहले का बताया गया। इन दोनों के अलग-अलग जवाब से कोर्ट संतुष्ट नहीं हुआ।

जेडीए की ओर से आज शाम तक कार्रवाई के बाद तोड़फोड़ के हिस्से को ढहा दिया जाएगा।

जेडीए की ओर से आज शाम तक कार्रवाई के बाद तोड़फोड़ के हिस्से को ढहा दिया जाएगा।

इधर, कर्मचारियों पर भी कार्रवाई
पेपर लीक मामले में राज्य सरकार ने चार सरकारी कर्मचारियों को भी बर्खास्त कर दिया है। इनमें सिरोही जिले के सीनियर टीचर भागीरथ, जालोर के जसवंतराम स्कूल के सीनियर टीचर रावताराम, ठेलिया स्कूल के प्रिंसिपल सुरेश कुमार, चितलवाना झाब में तैनात सीनियर असिस्टेंट पुखराज शामिल है।

कौन है भूपेंद्र सारण?
भूपेंद्र सारण साल 2011 में जीएनएम भर्ती पेपर आउट प्रकरण और वर्ष 2022 में पुलिस कॉन्स्टेबल भर्ती पेपर लीक मामले में भी शामिल था। वह जेल भी जा चुका है। पुलिस जयपुर से भूपेंद्र सारण की गर्लफ्रेंड और पत्नी को गिरफ्तार कर चुकी है।

3 घंटे में 5 मंजिला बिल्डिंग जमींदोज की गई थी
सोमवार को भूपेंद्र सारण और सुरेश ढाका के जयपुर के गुर्जर की थड़ी स्थित अधिगम कोचिंग इंस्टीट्यूट पर जेडीए ने एक्शन लिया था। जेडीए ने कोचिंग की बिल्डिंग पर बुलडोजर चलाया। करीब 3 घंटे में पूरी 5 मंजिला बिल्डिंग को गिरा दिया गया था। यह इंस्टीट्यूट कॉर्नर के प्लॉट पर था और सर्विस रोड की जगह पर कब्जा करके बनाया गया था। इसके तीन कमरे और अन्य निर्माण को जेडीए ने जेसीबी और पोकलेन मशीनों से तोड़ दिया था।

सीनियर टीचर भर्ती परीक्षा का पेपर लीक करने के मास्टरमाइंड भूपेंद्र सारण के मकान पर आज जयपुर विकास प्राधिकरण (जेडीए) ने बुलडोजर चला दिया। दोपहर सवा चार बजे मकान के आगे के हिस्से पर सबसे पहले बुलडोजर चला। मकान के आगे के 15 फीट हिस्से को ढहाया गया। आज शाम 6 बजे तक तोड़फोड़ की कार्रवाई चली।

शनिवार से ड्रिल मशीन के जरिए 15 फीट में छत काटी जाएगी। उसके साथ ही पीछे के हिस्से में 8.3 फीट का हिस्सा काटा जाएगा। उसके बाद काटे गए हिस्से को ढहाया जाएगा।

इधर, पेपर लीक मामले में राज्य सरकार ने चार सरकारी कर्मचारियों को भी बर्खास्त कर दिया है। इनमें सिरोही जिले के सीनियर टीचर भागीरथ, जालोर के जसवंतराम स्कूल के सीनियर टीचर रावताराम, ठेलिया स्कूल के प्रिंसिपल सुरेश कुमार, चितलवाना झाब में तैनात सीनियर असिस्टेंट पुखराज शामिल है।