Thursday, December 1निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

पिछड़ी बस्ती की महिलाओं को बनाया स्वावलंबी:सेवा भारती ने कर रही पहल, अच्छा कार्य करने वाली बालिकाओं का किया सम्मान

अनूपगढ

सेवा भारती के द्वारा पिछड़ी बस्ती की महिलाओं और बालिकाओं को स्वावलंबी बनाने के लिए अनेक आयाम चलाए जा रहे हैं। करवा चौथ के अवसर पर जिन बालिकाओं के द्वारा अच्छा कार्य किया गया था सेवा भारती के द्वारा उन बालिकाओं को आज पब्लिक पार्क में कार्यक्रम आयोजित कर सम्मानित किया गया है। सेवा भारती के द्वारा बालिकाओं को माला पहनाकर सम्मान दिया गया है।

करवाचौथ पर बालिकाओं ने किया उत्कृष्ट कार्य

सेवा भारती के दीपक बवेजा ने जानकारी देते हुए बताया कि सेवा भारती के द्वारा महिला व बालिकाओं को स्वावलंबी बनाने के लिए मेहंदी का प्रशिक्षण दिया गया था। करवा चौथ के अवसर पर पिछड़ी बस्ती की बालिकाओं के द्वारा घर-घर जाकर महिलाओं को मेहंदी लगाने का कार्य किया गया था। करवा चौथ पर के अवसर पर किए गए कार्य के लिए बालिकाओं को पूरे शहर से एक लाख रुपये की आमदनी हुई थी।

पिछड़ी बस्ती की बालिकाओं के द्वारा उत्कृष्ट कार्य किए जाने पर सेवा भारती के द्वारा इनका आज विशेष सम्मान किया गया है। सेवा भारती के वीरपाल सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि पिछड़ी बस्ती की बालिकाओं के द्वारा एक लाख रुपए की आमदनी करना क्षेत्रवासियों के लिए बड़े गर्व की बात है।

भीख मांगने का करती थी कार्य

सेवा भारती के तिलकराज चुघ ने जानकारी देते हुए बताया कि सेवा भारती का मुख्य उद्देश्य पिछड़ी बस्ती की महिलाओं व बालिकाओं को स्वावलंबी बनाना है। इससे पूर्व पिछड़ी बस्ती की महिलाएं व बालिकाएं कचरा बीनने और भीख मांगने का कार्य करती थी। मगर सेवा भारती के द्वारा महिला स्वावलंबी केंद्र चलाकर महिलाओं को स्वावलंबी बनाया जा रहा है। जिससे महिलाओं व बालिकाओं ने भीख मांगना और कचरा बीनने का कार्य छोड़ खुद का रोजगार करना शुरू कर दिया है।

स्वावलंबी बनाने के लिए चलाए जा रहे हैं अनेक आयामसेवा भारती के सोमदत्त कचोरिया ने जानकारी देते हुए बताया कि महिलाओं व बालिकाओं को सेवा भारती के द्वारा स्वावलंबी बनाया जा रहा है।महिलाओं में बालिकाओं को मेहंदी,ब्यूटी पार्लर,सिलाई ,कढ़ाई,बुनाई,थैले बनाना,राखियां बनाना, झाड़ू बनाना सहित अन्य रोजगारों का निशुल्क प्रशिक्षण दिया जाता है जिससे महिलाएं खुद का रोजगार कर स्वावलंबी बन रही है।