Thursday, February 2निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

दो ट्रकों पर आमने-सामने की भीषण टक्कर:नींद की झपकी आने के कारण सामने से आ रहे ट्रक से भिड़ गया

बीकानेर. लूणकरणसर थाना इलाके में बीकानेर-श्रीगंगानगर नेशनल हाईवे पर दो ट्रकों की आमने सामने भिड़ंत हो गई। इसमें एक व्यक्ति घायल हो गया। पुलिस गश्ती दल के अनुसार एक ट्रक बीकानेर की तरफ जा रहा था और दूसरा ट्रक लूणकरणसर की तरफ जा रहा था। इसी दौरान लूणकरणसर से करीब 31 किलोमीटर दूर बामनवाली के पास शिव धोरा के सामने दोनों ट्रकों की भिड़ंत हो गई।

गनीमत रही बड़ा हादसा होने से टल गया। बीकानेर की तरफ से आ रहे ट्रक चालक को नींद की झपकी आने के कारण सामने से आ रहे ट्रक से भिड़ गया। मौके पर पहुंची पुलिस टीम के एएसआई बजरंग लाल,कांस्टेबल ओम चाहर व चालक हजारीसिंह ने आसपास के लोगों की मदद से बीकानेर की तरफ से जा रहे ट्रक ड्राइवर को बड़ी मशक्कत के बाद बाहर निकाला गया। और पुलिस ने निजी वाहन से बीकानेर पीबीएम अस्पताल पहुंचाया। जबकि दूसरे ट्रक का ड्राइवर सही सलामत रहा और वो मौके से फरार हो गया।

नहीं पहुंची एम्बुलेंस

नेशनल हाइवे पर ये टोल रोड है। जहां टोल कंपनी की ओर से सुरक्षा प्रबंध उपलब्ध कराए जाते हैं। एक एंबुलेंस भी होती है, लेकिन यहां मौके पर एंबुलेंस नहीं पहुंची। टोल के नंबर पर लोगों ने कॉल भी किए लेकिन कोई जवाब नहीं मिला। अंत में पुलिस ने एक निजी वाहन की मदद से घायलों को बीकानेर अस्पताल पहुंचाया।

हर पचास किलोमीटर पर हो एंबुलेंस

नेशनल हाईवे पर दुर्घटना के बाद एंबुलेंस तैनात न होने के यह तो एक उदाहरण हैं ऐसा आए दिन हो रहा है। इंडियन रोड कांग्रेस की गाइड लाइन के अनुसार 50 किमी की दूरी पर एक एंबुलेंस होनी चाहिए। शहरी क्षेत्र में अनिवार्य रूप से एंबुलेंस तैनात होनी चाहिए जिससे अगर कोई दुर्घटना होती है तो गोल्डन आवर में उपचार मिल सके। इससे घायलों की जान बचाई जा सकती है। क्षेत्र के लोग अब टोल कंपनी के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे हैं।