Wednesday, February 1निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

देश ने प्रवासी भारतीयों को अपने दिल में दी जगह: ठाकुर

इंदौर (वार्ता). केन्द्रीय युवा मामले एवं खेल मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने कहा है कि युवा प्रवासी सम्मेलन न केवल जड़ों को जोड़ने का प्रयास है बल्कि नई संभावनाओं को भी आमंत्रित करता है। उन्होंने कहा कि पूरे देश ने प्रवासी भारतीयों को अपने दिल में जगह दी है।
सत्रहवें प्रवासी दिवस के पहले दिन केन्द्रीय युवा मामले एवं खेल मंत्री श्री ठाकुर की अध्यक्षता में प्लेनरी सत्र में ह्यनवाचारों और नई प्रौद्योगिकी में प्रवासी युवाओं की भूमिकाह्ण पर पैनल डिस्कसन हुए। श्री ठाकुर ने कहा कि हम उनकी उपलब्धियों और देश के प्रति समर्पित भाव से कार्य करने के जूनून का सम्मान करते हैं। उन्होंने कहा कि भारतीय युवाओं में वो जोश और जूनून है जो दुनिया के किसी भी कोने में जाए तो भारत का नाम हमेशा रोशन ही करेंगें। प्रवासी भारतीय इस दिशा में एक महत्वपूर्ण सेतु की भूमिका सफलतापूर्वक निभा रहे हैं।
उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारत लगातार आगे बढ़ रहा है। भारत पूरे विश्व का पॉवर हाऊस है। यह सफलता आप सबकी सफलता है। उन्होंने कहा कि भारत का पुर्नउत्थान हो रहा है। श्री ठाकुर ने कहा कि आप मीलों दूर रहकर भी हमारे दिल में रहते हैं।
श्री ठाकुर ने कहा कि 12 जनवरी को पूरे देश में स्वामी विवेकानन्द का जन्म-दिवस मनाया जायेगा। स्वामी विवेकानंद ने स्वदेशी वस्त्र धारण कर अमेरिका में अपने भाषण से दुनिया को अपना बनाया था और युवाओं को नई दिशा दिखाई थी। ऐसे ही आप सब भी अपने भीतर छुपे हुए विवेकानंद को बाहर लायें, अपने आपको पहचाने और भारत को विश्व पटल पर अग्रिम बनाने में सहयोग करें। श्री ठाकुर ने युवा प्रवासी भारतीयों से आहवान किया कि भारत में कुछ समय बितायें, चुनौतियों को समझकर प्रौद्योगिकी और विज्ञान के माध्यम से देश को आगे बढ़ाने में मदद करें।
इस सत्र में ट्रेवल एप के संस्थापक अमित सुडानी ने कहा कि हर युवा कुछ नया करना चाहता है। उन्हें खुशी है कि मध्यप्रदेश सरकार ने हमें एक ऐसा प्लेटफार्म दिया है, जहाँ हम अपने हुनर को दुनिया के सामने ला सकते हैं। पूर्व में यह कहा जाता था कि युवा शक्तियाँ पश्चिम की ओर जा रही हैं। अब परिवर्तन हुआ है, पश्चिम के लोग अब पूरब (एशिया) की ओर आकर्षित हो रहे हैं। श्री सुडानी ने कहा कि सबसे ज्यादा प्रशिक्षित युवा भारत में मौजूद हैं।