Friday, December 9निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

देशवासियों की मानसिकता व कार्य संस्कृति बदली है : मोदी

वड़ोदरा (वार्ता)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पहले की सरकारों पर देश में विनिर्माण क्षेत्र की उपेक्षा करने का आरोप लगाते हुए कहा कि उनकी सरकार के अथक प्रयासों से मानसिकता और कार्यसंस्कृति बदली है जिसके कारण देश विनिर्माण का गढ़ बनने वाला है और निजी क्षेत्र को इस मौके का पूरा फायदा उठाना चाहिए। मोदी ने रविवार को यहां देश के पहले स्वदेशी परिवहन विमान विनिर्माण संयंत्र की आधारशिला रखने के मौके पर कहा कि उनकी सरकार काम चलाऊ ढर्रे को छोड़ कर विकास के समग्र दृष्टिकोण पर आगे बढ़ रही है। उन्होंने कहा कि हमारी नीति स्थिर और भविष्योन्मुखी है। आज भारत विनिर्माण में सबसे आगे रहने की तैयारी में है। सेमीकंडक्टर से विमान बनाने तक हम सबसे आगे रहने के इरादे से बढ़ रहे हैं। वह दिन दूर नहीं जब दुनिया के बड़े यात्री विमान भी भारत में ही बनेंगे। सरकार की नीतियों और आर्थिक सुधारों से निवेश का माहौल बना है। इसी का परिणाम है कि 160 देशों की कंपनियों ने भारत में निवेश किया है। इस संयंत्र में पहला स्वदेशी विमान 2026 में तैयार हो जाएगा। यह अपनी तरह की पहली परियोजना है जिसमें एक निजी कंपनी द्वारा भारत में एक सैन्य विमान का निर्माण किया जाएगा। मोदी ने कहा कि आत्म निर्भरता की ओर बढ़ रहे भारत के लिए यह एक और बड़ी उपलब्धि होगी। इससे भारतीय सेना की ताकत में और वृद्धि होगी। भारत में बनने वाले सैन्य विमान अब विदेशी बाजारों में भी बेचे जाएंगे।