Saturday, December 3निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

दुग्ध उत्पादक सहकारी समिति पर अनियमितता की शिकायत

  • पशुपालकों एवं दुग्ध उत्पादकों ने अतिरिक्त जिला कलक्टर को सौंपा ज्ञापन
    हनुमानगढ़ (सीमा सन्देश न्यूज)।
    दुग्ध उत्पादक सहकारी समिति अध्यक्ष-सचिव की ओर से पशु आहार का रेट अधिक वसूलने लेने व अनुदान नहीं देने का आरोप लगाते हुए गांव 41 एनडीआर व पंडितांवाली के पशुपालकों एवं दुग्ध उत्पादकों ने बुधवार को अतिरिक्त जिला कलक्टर को ज्ञापन सौंपा। पशुपालकों एवं दुग्ध उत्पादकों ने बताया कि गांव 41 एनडीआर में दुग्ध उत्पादक सहकारी समिति लिमिटेड के नाम से समिति चल रही है। समिति के सचिव व अध्यक्ष की ओर से पशुपालकों से 150 रुपए प्रति बैग ज्यादा रेट वसूला जा रहा है। समिति पर 700-800 लीटर दूध आ रहा है। मुख्यमंत्री दूध संबल योजना के तहत 5 रुपए प्रति लीटर दूध अपने घर के सदस्यों के खाते में पिछले 12 महीनों से भेजा जा रहा है। उन्होंने पहले भी सरस डेयरी में शिकायत की थी लेकिन कोई कार्यवाही नहीं की गई। समिति पर नि:शुल्क आने वाले हरे चारे के बीज के भी सचिव की ओर से रुपए लिए जाते हैं। सचिव ने स्वयं की प्रबंध कार्यकारिणी बना रखी है जो नियमानुसार गलत है। प्रबंध कार्यकारिणी में सचिव की ओर से अपनी बहनों का नाम दिया गया है। बहन की शादी हो चुकी है और अध्यक्ष व सचिव दोनों पिता-पुत्र हैं। सचिव, अध्यक्ष ने समिति में अपना राजपाट जमा रखा है। समिति का जो लाभ मिलना था दुग्ध उत्पादकों को नहीं मिल रहा। आज तक लाभ वितरण नहीं किया है। सभी लाभांश सचिव-अध्यक्ष ने खुर्द-बुर्द कर स्वयं लाभ अर्जित किया है जो कि सदस्यों को मिलना चाहिए था। समिति बीएमसी अपने घर पंडितांवाली में लगा रखी है जो नियमानुसार गलत है। पशुपालकों एवं दुग्ध उत्पादकों ने समिति से दूध का सैम्पल भरने, अनियमिमताओं की विजिलेंस टीम से जांच करवाने, समिति बीएमसी को 41 एनडीआर में ही लगाने व आॅडिट रिपोर्ट करने की मांग की। इस मौके पर सुरेंद्र जाखड़, राजवीर माली, विक्रम बिश्नोई, ललित कुमार, सुभाष, संजू आदि मौजूद थे।