Tuesday, December 6निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

तो बिहार को दहलाने की है तैयारी?

  • नक्सलियों के ठिकाने स देसी रॉकेट लॉन्चर और 250 आईईडी बम बरामद
    औरंगाबाद.
    बिहार के औरंगाबाद में भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद हुआ है। बुधवार को सीआरपीएफ की कोबरा बटालियन, एसटीएफ और बिहार पुलिस ने एक देसी रॉकेट लॉन्चर, 250 आईईडी बम, 25 केन बम समेत अन्य संदिग्ध सामग्री बरामद की है। बताया जा रहा है कि सुरक्षा बलों ने गुप्त सूचना के आधार पर छकरबंधा के जंगल में सर्च आॅपरेशन चलाया। बताया जा रहा है कि सुरक्षा बलों पर हमले के इरादे से नक्सलियों ने आईईडी प्लांट किए थे।
    औरंगाबाद एसपी कंतेश कुमार मिश्रा ने बताया कि नक्सलियों के खिलाफ सुरक्षाबलों ने संयुक्त कार्रवाई की और छकरबंधा के जंगल में सर्च अभियान चलाया। सर्च अभियान के दौरान 25 से ज्यादा केन बम बरामद किए गए। एसपी के अनुसार, नक्सलियों ने इन बमों को बंकर में छिपाकर रखा था। एसपी ने बताया था कि इन बमों का वजन एक से तीन किलोग्राम तक है। सुरक्षा बलों ने बंकर को नष्ट कर दिया।
    सर्च अभियान के दौरान सुरक्षा बलों ने रॉकेट लॉन्चर भी बरामद किया है। एसपी के अनुसार, जो लॉन्चर बरामद किया गया है, वह देसी है। इस लॉन्चर को नक्सलियों ने खुद तैयार किया है। एसपी ने बताया कि शुरूआती जांच में पता चला है कि नक्सलियों ने इसे खुद लोहे की पाइस की मदद से बनाया है। हालांकि इससे पहले भी नक्सलियों के पास से रॉकेट लॉन्चर बरामद हुए है, लेकिन वो विदेशी है। लेकिन नक्सलियों के पास से देसी रॉकेट लॉन्चर बरामद होने से चिंता बढ़ गई है।
    सुरक्षाबलों की छापेमारी में एक देसी रॉकेट लॉन्चर भी बरामद हुआ है। शुरूआती जांच में पता चला है कि नक्सलियों ने इसे खुद से ही लोहे की पाइप की मदद से बनाया था। पूर्व में भी कई रॉकेट लॉन्चर बरामद हुए लेकिन वे विदेशों में बने हुए थे। मगर देसी रॉकेट लॉन्चर मिलने से सुरक्षाबलों की चिंता बढ़ गई है।
    मंगलवार को भी सुरक्षा बलों ने भारी मात्रा में विस्फोट बरामद किया था। विस्फोटकों में 50 से भी अधिक की संख्या में सीरीज आईईडी, दो दर्जन जिलेटिन रॉड, इलेक्ट्रिक वायर, बैटरी, पाइप और अन्य सामग्रियां शामिल थीं। औरंगाबाद एसपी ने बताया कि सर्च आॅपरेशन लगातार जारी रहेगा। नक्सलियों के खात्मे के लिए एसटीएफ, कोबरा, सीआरपीएफ एवं जिला पुलिस कृत संकल्पित है। यह अभियान तब तक जारी रहेगी, जब तक जिले के नक्सल प्रभावित क्षेत्र को नक्सलियों से मुक्त न करा दिया जाए।