Friday, February 3निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

तवांग झड़प के बाद पहली बार नॉर्थ-ईस्ट पहुंचे मोदी:बोले- विकास में रोड़ा बनने वालों को रेड कार्ड दिखाया; त्रिपुरा में रोड शो और रैली की

गुवाहाटी. तवांग में भारत-चीन सेना के बीच झड़प के बाद पहली बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नॉर्थ-ईस्ट में मेघालय और त्रिपुरा पहुंचे। वे रविवार को शिलॉन्ग में नॉर्थ ईस्टर्न काउंसिल (NEC) के 50 साल पूरे होने पर गोल्डन जुबली कार्यक्रम में शामिल हुए। मोदी इस कार्यक्रम में मेघालय की ट्रेडिशनल ड्रेस पहनकर पहुंचे। इसके बाद PM मोदी ने त्रिपुरा की राजधानी अगरतला में रोड शो भी किया। मोदी ने अगरतला में 4350 करोड़ रुपए की विकास परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास किया।

अगरतला में जनसभा में मोदी ने कहा कि अगरतला की धरती से 2 लाख माताओं-बहनों को पक्के घर मिलने पर, लखपति बनने के लिए बधाई देता हूं। माणिक साहा सरकार राज्य में बहुत काम कर रही है। यहां हरेक को सर पर पक्की छत मिली है। इसलिए त्रिपुरा में हमें आशीर्वाद मिल रहा है। त्रिपुरा में डबल इंजन की सरकार है। इसके पहले नॉर्थ ईस्ट की चर्चा केवल चुनाव होने या हिंसा होने पर होती थी।

आज त्रिपुरा की चर्चा सफाई, विकास, गरीबों को घर मिलने और इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए हो रही है। त्रिपुरा छोटे राज्यों में सबसे स्वच्छ राज्य है। मैं त्रिपुरा के लोगों को स्वच्छता को आंदोलन बनाने के लिए बधाई देता हूं।5 साल में त्रिपुरा में बहुत तेजी से विकास हुआ। त्रिपुरा को आज पहला डेंटल कॉलेज मिला है। इससे त्रिपुरा के युवाओं को यहीं पर डॉक्टर बनने का अवसर मिलेगा।

PM मोदी ने कहा कि पिछले 8 साल में नॉर्थ ईस्ट सेक्टर में कई नेशनल हाईवे बने हैं। कई ग्रामीण इलाके सड़कों से भी जुड़े हुए हैं। हमारी डबल इंजन सरकार का फोकस फिजिकल, डिजिटल के साथ-साथ सोशल इंफ्रास्ट्रक्चर को बेहतर बनाने पर है। त्रिपुरा के जरिए अब नॉर्थ ईस्ट इंटरनेशनल ट्रेड का भी एक गेटवे बन रहा है। अगरतला अखौरा रेलवे लाइन से व्यापार का नया रास्ता खुलेगा। इसी तरह भारत, थाइलैंड, म्यामांर हाइवे रोड इंफ्रास्ट्रक्चर के जरिए नॉर्थ ईस्ट दूसरे देशों के साथ संबंधों का द्वार भी बन रहा है।

नॉर्थ ईस्ट में 7000 से अधिक स्वास्थ्य और कल्याण केंद्र स्वीकृत किए गए हैं जबकि अकेले त्रिपुरा में 1,000 से अधिक आ रहे हैं। ये केंद्र डायबिटीज और कैंसर जैसी बीमारियों से पीड़ित हजारों रोगियों की जांच करने में मदद करेंगे

जनजातीय समुदाय से जुड़े हर मुद्दे को हमने प्राथमिकता दी

मोदी ने कहा कि अटल जी की सरकार ने सबसे पहले आदिवासियों के लिए अलग मंत्रालय, अलग बजट की व्यवस्था की। जबसे आपने दिल्ली में हमें अवसर दिया है, तबसे जनजातीय समुदाय से जुड़े हर मुद्दे को हमने प्राथमिकता दी है। आदिवासी समुदाय की पहली पसंद बीजेपी है। हाल के गुजरात चुनावों में, बीजेपी ने आदिवासी समुदायों के लिए आरक्षित 27 सीटों में से 24 पर जीत हासिल की। हमने आदिवासी समुदाय से जुड़े मुद्दों को महत्व दिया है।

आज डबल इंजन सरकार का प्रयास है कि त्रिपुरा के छोटे किसानों, छोटे उद्यमियों और सबको बेहतर अवसर मिले। यहां का लोकल कैसे ग्लोबल बने इसके लिए प्रयास किए जा रहे हैं।

विकास में रुकावट बनी ताकतों को रेड कार्ड दिखाया
इसके पहले मेघालय के शिलॉन्ग में मोदी ने कहा- फुटबॉल में अगर कोई खिलाड़ी खेल भावना से नहीं खेलता है, तो उसे रेड कार्ड दिखाकर बाहर कर दिया जाता है। ऐसे ही पिछले 8 साल में हमने नॉर्थ-ईस्ट के विकास में रुकावट बनी ताकतों को रेड कार्ड दिखाया है।

हम भ्रष्टाचार, पक्षपात, भाई-भतीजावाद, हिंसा, नए प्रोजेक्ट को ठप करने और वोट बैंक की राजनीति को दूर करने के लिए ईमानदारी से कोशिश कर रहे हैं, लेकिन आप जानते हैं कि इन बीमारियों की जड़ें काफी गहरी होती हैं। इसलिए मिलकर इन्हें जड़ से उखाड़ना होगा।