Monday, January 30निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

जैक मा को चीन सरकार से पंगा लेना पड़ा भारी:बिलिनेयर जैक मा के हाथ में अब नहीं रहा फिनटेक कंपनी एंट ग्रुप का कंट्रोल

चीन के बिलिनेयर जैक मा के हाथ से अब फिनटेक जायंट कंपनी एंट ग्रुप की कमान छिन गई है। रॉयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक, एंट ग्रुप ने शनिवार को कहा कि कंपनी पर अब जैक मा का कंट्रोल नहीं रह गया है। जैक मा ही एंट ग्रुप के फाउंडर थे और उन्होंने ही इस कंपनी को ऊंचाईयों पर पहुंचाया था।

एंट ग्रुप में जैक मा के वोटिंग राइट्स घटकर 6.2% हुए
रिपोर्ट के मुताबिक, कंपनी ने कहा कि जैक मा के वोटिंग राइट्स भी बहुत कम कर दिए गए हैं। कभी एंट ग्रुप में जैक मा के पास 50% वोटिंग राइट्स हुआ करते थे, जो अब घटकर 6.2% ही रह गए हैं। वहीं एंट ग्रुप में जैक मा की हिस्सेदारी 50.5% से घटकर अब सिर्फ 10% रह गई है।

जैक मा को चीन की सरकार से पंगा लेना पड़ा भारी
एंट ग्रुप चीन की दिग्गज ई-कॉमर्स कंपनी अलीबाबा की सहयोगी है। दरअसल, जैक मा को चीन की सरकार से पंगा लेना महंगा पड़ा है। वे एक समय एशिया के सबसे अमीर व्यक्ति थे, लेकिन आज उनकी हालत खराब हो गई है। जैक मा मार्च 2020 में मुकेश अंबानी को पछाड़कर एशिया के सबसे बड़े अमीर आदमी बने थे, लेकिन चीन की सरकार के बारे में दिए गए एक बयान के बाद उनकी मुश्किलें बढ़ गई थीं।

पिछले साल जैक मा की नेटवर्थ में आई भारी गिरावट
पिछले साल जैक मा की नेटवर्थ में काफी गिरावट देखने को मिली थी। ब्लूमबर्ग बिलिनेयर इंडेक्स के मुताबिक, जैक मा की नेटवर्थ अब 34.1 बिलियन डॉलर रह गई है और वह दुनिया के अमीरों की लिस्ट में 34वें नंबर पर आ गए हैं।

रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी 86.8 बिलियन डॉलर की नेटवर्थ के साथ एशिया में दूसरे और दुनिया में 8वें सबसे अमीर आदमी हैं। वहीं अडाणी ग्रुप के चेयरमैन गौतम अडाणी 117 बिलियन डॉलर की नेटवर्थ के साथ एशिया के सबसे अमीर आदमी हैं। वहीं दुनिया के अमीरों की लिस्ट में अडाणी तीसरे नंबर पर हैं।