Tuesday, December 6निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

जम्मू-कश्मीर: एनजीओ की आड़ में चल रहा था टेरर फंडिंग और भर्ती का गिरोह, छह संदिग्ध गिरफ्तार, हथियार की जब्त

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर पुलिस ने कुपवाड़ा जिले में एक आतंकवादी फंडिंग और भर्ती मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया है। पुलिस के एक बयान में कहा गया है कि जम्मू-कश्मीर पुलिस और 21 और 47 राष्ट्रीय राइफल्स (आरआर) ने उत्तरी कश्मीर में चल रहे टेरर फडिंग और भर्ती मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया है। बताया गया कि कुपवाड़ा के चीरकोट इलाके के रहने वाले बिलाल अहमद डार नामक व्यक्ति के बारे में सूचनाएं मिलने के बाद सेना और कुपवाड़ा पुलिस ने नुटनुसा और लोलाब इलाकों में तलाशी अभियान शुरू किया था। इसी दौरान उसे गिरफ्तार किया गया।
बिलाल अहमद डार ने पूछताछ में बताया कि वह उत्तरी कश्मीर के विभिन्न हिस्सों के पांच अन्य लोगों के साथ इस्लाही फलाही रिलीफ ट्रस्ट (आईएफआरटी) नामक एक नकली एनजीओ की आड़ में एक आतंकी फंडिंग रैकेट चला रहा था, जिसने गरीबों और जरूरतमंद परिवार को मौद्रिक सहायता प्रदान करने का दावा किया था। अधिकारियों ने बताया कि बिलाल सक्रिय रूप से विभिन्न गांवों में ‘इज्तेमा’ (बैठकें) आयोजित कर आतंकवादी गतिविधियों के लिए धन जुटाने और भर्ती में सहायता करने में सक्रिय रूप से शामिल था, जहां वह एनजीओ के अन्य सदस्यों के साथ युवाओं को राष्ट्र विरोधी गतिविधियों में लुभाने की कोशिश करता था।
इन पांच संदिग्धों को किया गया है गिरफ्तार
गिरफ्तार बिलाल ने अपने अन्य साथियों के नाम भी बताए, जिनमें कचलू, लंगेट से वाहिद अहमद भट और सिंहपोरा, बारामूला से जावेद अहमद नजर और ब्रथ सोपोर के मुश्ताक अहमद नजर, मुंडजी सोपोर के बशीर अहमद मीर और चिरकोट के जुबैर अहमद डार, जो बिलाल के चचेरे भाई हैं, भी मॉड्यूल में सक्रिय रूप से शामिल थे। इन सभी को गिरफ्तार कर लिया गया है।
गांव-गांव में घूमकर जमा करते थे धन
पुलिस ने बताया कि ये लोग विभिन्न गांवों में जाकर और एनजीओ की आड़ में कार्यक्रमों और सभाओं का आयोजन करते थे। फिर दान मांगकर धन इकट्ठा करना और रंगरूटों के रूप में संभावित सॉफ्ट टारगेट की तलाश किया करते थे। एनजीओ के नाम पर बैंक खातों का इस्तेमाल तहरीक-ए-उल मुजाहिदीन जम्मू और कश्मीर (टीयूएमजेके) के लिए धन शोधन के लिए किया जा रहा था। यह समूह 15 अगस्त के आसपास और केंद्रीय गृह मंत्री की बारामूला यात्रा के दौरान राष्ट्र विरोधी पोस्टर लगाने के लिए भी जिम्मेदार था।
कुपवाड़ा में मस्जिद पर फहराया था पाकिस्तानी झंडा
पुलिस ने बताया कि बिलाल ने यह स्वीकार किया कि पाकिस्तानी आकाओं के निर्देश पर 14 अगस्त को कुपवाड़ा के मरकजी जामिया मस्जिद पर उसने पाकिस्तानी झंडा फहराई थी। ग्रुप सक्रिय रूप से विस्फोटक सामग्री एकत्र कर रहा था जिसे आईईडी में इस्तेमाल होने के लिए जाना जाता है। वाहिद भर्ती और फंडिंग मॉड्यूल के पीछे मास्टरमाइंड था। सभी पकड़े गए व्यक्तियों से भारी मात्रा में हथियार, गोला-बारूद, आईईडी तैयार करने के लिए कच्चा माल और आपत्तिजनक सामग्री भी बरामद की गई है।