Wednesday, February 1निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

चौक का नाम बदलने पर विवाद:पुरानी आबादी में हंगामा, पुलिस पर लाठी-पत्थर से हमला , नौ लोग हिरासत में

श्रीगंगानगर. शहर के पुरानी आबादी इलाके में चांदनी चौक के नजदीक गहलोत चौक का नाम बदलने को लेकर शुक्रवार को जबर्दस्त विवाद हो गया। कुछ लोग इस चौक का नाम बदलकर रामदेव चौक रखने का प्रयास कर रहे थे। इन लोगों ने चौक पर इससे संबंधित बोर्ड भी लगा दिया, इसी दौरान बिना किसी अनुमति नाम बदलने को लेकर कुछ लोगों ने पुलिस को सूचना दे दी। मौके पर पहुंची पुलिस और लोगों में भी विवाद हुआ। पुलिस ने इस मामले में नौ लोगों को हिरासत में लिया है। घटना की जानकारी मिलने पर एएसपी सतनामसिंह मेहंदीरत्ता मौके पर पहुंचे। उन्होंने घटना की जानकारी ली और यथास्थिति बनाए रखने की बात कही।

ऐसे शुरू हुआ विवाद
विवाद की शुरुआत शुक्रवार सुबह उस समय हुई जब गहलोत चौक पर कुछ लोग तोड़ फोड़ करने लगे। इन लोगों ने यहां रामदेव चौक का बोर्ड लगाने की तैयारी कर ली। चौक के पास रहने वाले दिलीप गहलोत ने उन्हें ऐसा करने से मना किया। इस पर चौक पर मौजूद लोग उनसे उलझने लगे। विवाद बढ़ता दिखा तो दिलीप ने इसकी सूचना पुरानी आबादी थाने को दे दी। मौके पर थाने से तीन पुलिसकर्मी पहुंचे। इन लोगों से भी चौक पर मौजूद लोग उलझ गए। इस पर पुलिसकर्मियों ने मौके पर जाब्ता मंगवाया और एक दो लोगों को शांति भंग के आरोप में थाने ले जाने लगे तो पीछे से मोहल्ल्ले के लोग उनकी ओर झपटे और पुलिस पर लाठी और पत्थरों से हमला कर दिया। इस दौरान दो पुलिसकर्मियों को पीठ और पैर पर लाठियां लगीं।

हमला होने पर बुलाई पुलिस फोर्स
पुलिस पर इस तरह हमला होने पर मौके पर और पुलिस फोर्स बुलाई गई। एसएचओ सुरजीत कुमार फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे। तत्काल कार्रवाई करते हुए मौके से नौ लोगों को हिरासत में लिया। इन लोगों ने दोनों पक्षों को अलग-अलग किया तथा मामला शांत करवाया। एसएचओ सुरजीत कुमार ने बताया कि मौके से चौक पर ही रहने वाले बिंदू गोस्वामी, करण और नौ अन्य लोगों को शांति भंग के आरोप में पकड़ा है। इनके खिलाफ राजकीय कार्य में बाधा के आरोप में मामला दर्ज किया जाएगा।
एएसपी पहुंचे मौके पर
घटना की जानकारी मिलने पर एएसपी सतनामसिंह मेहंदीरत्ता मौके पर पहुंचे। उन्होंने मौके पर पुलिस वाहन तैनात रखने के आदेश दिया। उन्होंने कहा कि मौके पर यथा स्थिति बनाए रखी जानी चाहिए। उन्होंने चौक पर रहने वाले दिलीप गहलोत से घटना की जानकारी ली।
वर्षों पुराना है गहलोत चौक
यह इलाका वर्षों से गहलोत चौक के नाम से जाना जाता रहा है। चौक पर दिलीप गहलोत और एक दो अन्य गहलोत परिवारों के मकान हैं। दिलीप गहलोत के पिता डॉ.सुभाष गहलोत का क्लीनिक इस इलाके में था। इस इलाके की लोकेशन लोग असानी से समझ पाए। इसके लिए इलाके के लोगों ने ही इसे गहलोत चौक नाम दिया। दिलीप गहलोत का दावा है कि इलाके की निर्वाचक नामावलियों तक में इस इलाके को गहलोत चौक के नाम से जाना जाता है। उनके इलाके में इसी पते पर पत्र व्यवहार भी होता है।