Friday, February 3निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

चीनी हैकर्स ने किया था AIIMS के सर्वर पर अटैक:5 सर्वर का डेटा रिकवर, OPD का ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन शुरू

नई दिल्ली. दिल्ली AIIMS सर्वर हैकिंग मामले में चीन की साजिश सामने आई है। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने पुष्टि की है कि AIIMS के सर्वर पर चीनी हैकर्स ने अटैक किया था। मंत्रालय के मुताबिक, AIIMS के 100 में से 5 सर्वर हैक किए गए थे, इन सभी का डेटा रिकवर कर लिया गया है। OPD का ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन शुरू हो गया है।

नवंबर में हैकिंग की जांच कर रहे अधिकारियों ने इसके पीछे चीन का हाथ होने की आशंका जताई थी। IFSO ने बताया था कि हैकिंग के दौरान AIIMS का पर्सनल डेटा भी लीक हुआ था।

साइबर अटैक के पीछे चीन के दो ग्रुप
हैकिंग की जांच कर रहे अधिकारी ने बताया था कि साइबर एक्सपर्ट्स के मुताबिक, चीन के दो रैंसमवेयर ग्रुप- सम्राट ड्रैगनफ्लाई और ब्रॉन्ज स्टारलाइट (DEV-0401) इस हमले के पीछे हो सकते हैं। वहीं, दूसरा संदेह लाइफ नाम के एक ग्रुप पर था, जिसे वानारेन नामक रैंसमवेयर का नया वर्जन माना जा रहा है। जांच से यह भी पता चलता है कि हो सकता है कि हैकर्स ने बिक्री के लिए डेटा को डार्क वेब पर डालना शुरू कर दिया हो, क्योंकि उनकी मांगें पूरी नहीं हुई थीं।

डार्क वेब इंटरनेट सर्चिंग का ही हिस्सा है, लेकिन इसे सामान्य रूप से सर्च इंजन पर नहीं ढूंढा जा सकता। इस तरह की साइट को खोलने के लिए स्पेशल ब्राउजर की जरूरत होती है, जिसे टॉर कहते हैं। डार्क वेब की साइट को टॉर एन्क्रिप्शन टूल की मदद से छुपा दिया जाता है। ऐसे में कोई यूजर्स इन तक गलत तरीके से पहुंचता है तो उसका डेटा चोरी होने का खतरा हो जाता है।