Wednesday, February 1निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

चार को जबरन करवाया भर्ती तो चार किसान और बैठे अनशन पर

  • नौवें दिन भी जारी रहा किसानों का आमरण अनशन
    हनुमानगढ़ (सीमा सन्देश न्यूज)।
    नोहर फीडर में 332 क्यूसेक पानी चलाने व नोहर फीडर की रि-मॉडलिंग करवाने की मांग को लेकर संयुक्त किसान संघर्ष समिति नोहर फीडर के बैनर तले जिला कलक्ट्रेट के समक्ष चल रहा जसाना वितरिका के पांच किसानों का आमरण अनशन रविवार को नौवें दिन भी जारी रहा। शुक्रवार को आमरण अनशन के आठवें दिन पुलिस प्रशासन की ओर से जबरदस्ती चार किसानों को अस्पताल में भर्ती करवाने के बाद रविवार को चार और किसान आमरण अनशन पर बैठ गए। हालांकि पहले से आमरण अनशन पर बैठे पांच किसानों की तबीयत में गिरावट आई परन्तु फिर भी अपनी मांगों को पूरा करवाने के लिए समस्त काश्तकार आमरण अनशन पर डटे रहे। ज्ञात रहे कि जल संसाधन विभाग नोहर के एसई द्वारा 6 नवंबर को जसाना वितरिका के किसानों को भरपाई के तौर पानी देने के वादे को पूरा न करने के विरोध में किसानों का आमरण अनशन पर जिला कलेक्ट्रेट के समक्ष बैठे थे। नियमित रूप से चिकित्सा विभाग के अधिकारी अनशनकारियों के स्वास्थ्य की जांच की जा रही है। अनशनकारियों ने एक स्वर में सभी ने नोहर फीडर में 332 क्यूसेक पानी की मांग की। किसानों ने बताया कि जब से नोहर फीडर बनी है तब से एक बार भी काश्तकारों को अपने हक का पूरा पानी नहीं मिला। नोहर फीडर में 332 क्यूसेक पानी की मांग को लेकर काश्तकारों ने हर अधिकारी के पास व जनप्रतिनिधि के पास धक्के खाये परन्तु आज दिन तक पूरा पानी नहीं मिलने के कारण काश्तकारों ने मजबूरन आमरण अनशन चलाया है। किसानों का आरोप हैं कि विभाग ने किसानों के साथ छल किया हैं। उन्होने कहा कि प्रशासन ने किसानों के साथ किये गये वायदे को आज दिन तक पूरा नही किया है जिससे कि किसानों ने भारी रोष व्याप्त है। उन्होंने चेतावनी दी है कि किसान अंतिम श्वास तक अपने इस आंदोलन को जारी रखेगे। रविवार को नये किसान आईदान हुड्डा, हरचंद बेनीवाल, हवासिंह बिजरनिया, बीरबल भादू धरने पर बैठे इसी तरह पहले से आमरण अनशन पर बैठे 5 काश्तकार बोहड़ सिंह, लालचंद खाती, ओमप्रकाश महरिया, जयसिंह माहिया, रमेश बामणिया आमरण अनशन पर डटे रहे। इस मौके पर अध्यक्ष रामकुमार सहारण, अमरसिंह पूनिया, गुरमेल सिंह, जगदीश सहारण, मनोज कुमार, जसवंत शर्मा, कमलेश कुमार, जीतू, कृष्ण छिम्पा, गोपीराम सहित अन्य किसान धरने पर बैठे।