Wednesday, February 1निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

घटिया सामग्री इस्तेमाल करने का आरोप, किया सांकेतिक चक्काजाम

  • अधिकारियों ने पहुंच की समझाइश, ठेकेदार को किया पाबंद तो माने ग्रामीण
    हनुमानगढ़ (सीमा सन्देश न्यूज)।
    सूरतगढ़ फोरलेन पर चक तीन एसटीजी में पुलिया के निर्माण कार्य में इस्तेमाल की जा रही सामग्री निम्न गुणवत्ता की होने का आरोप लगाते हुए गांव मक्कासर के ग्रामीणों व किसानों ने सोमवार सुबह फोरलेन पर सांकेतिक चक्काजाम कर दिया। सरपंच बलदेव सिंह के नेतृत्व में जाम लगाने वाले किसानों ने निर्माण कार्य रूकवा दिया और गुणवत्ता पूर्ण सामग्री प्रयोग करने की मांग की। सूचना मिलने पर प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचे और ग्रामीणों से समझाइश कर जाम खुलवाया। इस दौरान सरपंच बलदेव सिंह ने बताया कि सूरतगढ़ फोरलेन के हालात ऐसे नहीं कि टोल वसूली की जाए। बावजूद इसके आरएसआरडीसी की ओर से वाहन चालकों से लगातार टोल वसूला जा रहा है। फोरलेन पर चक तीन एसटीजी के पास बनी पुलिया काफी समय पहले क्षतिग्रस्त हो गई। इस बारे में आरएसआरडीसी के अधिकारियों को अवगत करवाया गया तो श्रीगंगानगर से अधिकारी आए और मौका देखा। इसके बाद करीब डेढ़ माह से फोरलेन के एक तरफ के हिस्से के टुकड़े को बंद कर रखा है। लेकिन अभी तक पुलिया बनाने का कार्य पूरा नहीं हुआ। अब टेंडर होने के बाद निर्माण कार्य शुरू किया गया है लेकिन निर्माण कार्य में इस्तेमाल किया जा रहा सरिया इतना कमजोर है कि छत्त बनाने में प्रयोग करने के लायक भी नहीं। फोरलेन पर हजारों टन के वाहन गुजरते हैं। अगर घटिया स्तर के सरिया का इस्तेमाल पुलिया निर्माण में किया गया तो यह निर्माण ज्यादा दिन नहीं चलने वाला। उन्होंने चेतावनी दी कि निर्माण कार्य में गुणवत्तापूर्ण सामग्री का इस्तेमाल नहीं किए जाने तक ठेकेदार को कार्य शुरू नहीं करने दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि विभाग को चेताने के लिए सांकेतिक चक्काजाम किया गया है। अगर विभाग नहीं जागा और पुलिया का सही तरीके से निर्माण नहीं किया गया तो आंदोलन किया जाएगा। इसके तहत फोरलेन को बेमियादी समय के लिए पूरी तरह जाम किया जाएगा। बलराम गोदारा ने बताया कि चक तीन एसटीजी में बनी पुलिया बैठ चुकी है। किसानों के खेतों में पूरा पानी नहीं पहुंच रहा। अब विभाग की ओर से पुलिया निर्माण कार्य में लीपापोती करने का प्रयास किया जा रहा है। विभाग की ओर से किसानों को जान-बूझकर परेशान किया जा रहा है। लेकिन किसान ऐसा नहीं होने देंगे। गुणवत्तापूर्ण कार्य नहीं होने तक विरोध जारी रहेगा। उधर, जाम लगाने की सूचना मिलने पर तहसीलदार हरदीप सिंह मौके पर पहुंचे। उन्होंने आक्रोशित ग्रामीणों व किसानों से समझाइश की। मौके पर ठेकेदार को बुलाकर निर्माण कार्य में गुणवत्ता का ध्यान रखने के निर्देश दिए। इस पर ग्रामीणों व किसानों ने सांकेतिक जाम हटा दिया। जाम करीब पन्द्रह मिनट तक रहा। इसके चलते कुछ देर के लिए यातायात व्यवस्था ठप हो गई। इस दौरान भाखड़ा प्रोजेक्ट चेयरमैन मनप्रीत सिंह, ओम स्वामी, डॉ. पलविन्द्र सिंह, विद्याधर शर्मा, लिच्छाराम झाझड़ा, भूपसिंह गोदारा, जगदीश तंवर, लक्ष्मीनारायण झाझड़ा, अमरजीत गोदारा, शिव कुमार भांभू, इंद्रसेन गोदारा, अमृत सिंह, बालकिशन शर्मा, मुखराम, सरजीत गोदारा, सुखदेव, सुभाष गोदारा, रोमी गोदारा, झमनलाल शर्मा आदि मौजूद रहे।