Tuesday, December 6निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

क्या मायावती की टेंशन बढ़ाएगा कांग्रेस का खड़गे दांव? पंजाब में तो हो गया था फेल

नई दिल्ली
दक्षिण भारत से आने वाले दलित नेता मल्लिकार्जुन खड़गे कांग्रेस के नए अध्यक्ष बने हैं। शशि थरूर को एक तरफा मुकाबले में हराते हुए 7897 वोट हासिल किए। खड़गे के पार्टी अध्यक्ष बनने से कई सालों से चुनावी मैदानों में बैकफुट पर रही कांग्रेस में कुछ समय के लिए ही सही, थोड़ा नयापन जरूर आया है। पार्टी एक तीर से दो निशाने साधने की जुगत में है। खड़गे का दांव चलकर न सिर्फ कांग्रेस ने राष्ट्रीय स्तर पर पार्टी को नई ऊर्जा देने का प्रयास किया है, बल्कि यूपी में मायावती के वोटबैंक में भी डेंट लगाने की कोशिश की है। दरअसल, यूपी में दलित समुदाय का एक बड़ा वोटबैंक है, जो कई दशकों से पहले मायावती और फिर कुछ सालों से उसमें का कुछ हिस्सा बीजेपी की ओर जाता रहा है। पार्टी खड़गे के जरिए यूपी में मायावती को मिलने वाले वोट्स को हासिल करने का प्रयास करेगी। हालांकि, पिछले साल पंजाब विधानसभा चुनाव से ऐन पहले चला गया कांग्रेस का दलित दांव फेल हो गया था। सिद्धू और कैप्टन अमरिंदर सिंह में चल रहे विवाद के बीच कांग्रेस आलाकमान ने दलित नेता चरणजीत चन्नी को मुख्यमंत्री बनाया था, लेकिन कुछ समय बाद हुए विधानसभा चुनाव में करारी हार का सामना करना पड़ा। खुद चन्नी भी दोनों सीटें हार गए।
यूपी में कितने फीसदी हैं दलित वोट?
देश को आजादी मिलने के बाद कई दशकों तक उत्तर प्रदेश की राजनीति में एक तरफा राज करने वाली कांग्रेस के हाथ से धीरे-धीरे सत्ता जाती रही। एक वक्त में दलित वोटबैंक में अच्छा खास हिस्सा रखने वाली कांग्रेस के पास अब काफी कम फीसदी दलित वोटर्स का साथ है। ऐसे में भले ही खड़गे को पार्टी ने राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाया हो, लेकिन यूपी में भी उसका फायदा उठाना चाहेगी। यूपी की राजनीति में दलित वोटर्स काफी अहम स्थान रखते हैं। यह प्रतिशत तकरीबन 21 फीसदी है, जोकि जाटव और गैर-जाटव में बंटा हुआ है। प्रदेश में जाटव आबादी 50-55 फीसदी है और बीएसपी सुप्रीमो मायावती भी इससे ही आती हैं। बसपा की जाटव वोटबैंक पर पकड़ काफी मजबूत रही है। 2017 यूपी विधानसभा चुनाव में लगभग 87 फीसदी जाटव ने मायावती को वोट दिया था, लेकिन यह प्रतिशत इस बार 2022 में कम होकर 65 फीसदी पर आ गया। मायावती से लगातार छिटक रहे दलित वोटर्स में सेंधमारी के पीछे बीजेपी बड़ी वजह है। अब कांग्रेस भी मायावती के इस वोटबैंक को हासिल करना जरूर चाहेगी।