Monday, January 30निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

कर्मचारी बोले, मामले की हो उच्च स्तरीय जांच, संदिग्ध थी मौत

  • दूसरे दिन भी हड़ताल पर रहे न्यायिक कर्मचारी
    हनुमानगढ़ (सीमा सन्देश न्यूज)।
    सहायक न्यायिक कर्मचारी सुभाष मेहरा की एनडीपीएस न्यायाधीश जयपुर महानगर के आवास पर 10 नवंबर को संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत के घटनाक्रम को लेकर राजस्थान न्यायिक कर्मचारी संघ के प्रदेश आह्वान पर गुरुवार को दूसरे दिन भी न्यायालयों में कार्यरत न्यायिक कर्मचारी हड़ताल पर रहे। सहायक न्यायिक कर्मचारी की हत्या की एफआईआर दर्ज कर सीबीआई से जांच करवाने की मांग कर रहे न्यायिक कर्मचारी बुधवार से सामूहिक अवकाश लेकर बेमियादी हड़ताल पर हैं। जिला न्यायालय परिसर के बाहर एकत्रित न्यायिक कर्मचारियों ने नारेबाजी करते हुए मृतक सुभाष मेहरा को न्याय नहीं मिलने तक हड़ताल जारी रखने की बात कही। सबने कहा कि मौत संदिग्ध थी। इसलिए मामले की उच्च स्तर पर जांच हो ताकि मौत का खुलासा हो सके। उन्होंने कहा कि सुभाष मेहरा की मौत का रहस्य स्पष्ट नहीं हो सका है। सब अवकाश पर हैं ताकि मृतक कर्मचारी को न्याय मिल सके। जहां शव मिला वहां पूरी जांच हो। पूरा राजस्थान सहायक कर्मी को न्याय दिलाने के लिए खड़ा है। यह एक तरह से हत्या है। इसका खुलासा होना चाहिए। न्याय कर्मी तब तक सामूहिक अवकाश पर रहेंगे जब तक मृतक को न्याय नहीं मिल जाएगा। न्यायिक कर्मचारियों ने बताया कि प्रांतीय महासभा के आह्वान पर स्थानीय न्यायिक कर्मचारियों ने भी सामूहिक अवकाश लेकर बेमियादी हड़ताल शुरू की है। संघ की मांग है कि सहायक न्यायिक कर्मचारी की हत्या की एफआईआर दर्ज हो। प्रकरण की जांच सीबीआई से करवाई जाए। दोषी के खिलाफ कार्रवाई हो तथा विभागीय जांच की जाए। साथ ही मृतक के मोबाइल फोन की सिम जब्त की जाए। इस मौके पर मनीष कुमार, तेजनारायण, मनोज रहेजा सहित कई न्यायिक कर्मी मौजूद थे।