Saturday, December 3निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

ऑस्टियोपोरोसिस के खतरे से बचने के लिए इन विटामिन्स को डाइट में जरूर करें शामिल

नई दिल्ली

ऑस्टियोपोरोसिस के खतरे को रोकने के लिए कम उम्र में अपने हड्डियों की देखभाल करना बहुत जरूरी है। मजबूत हड्डियां न केवल आपको सही मुद्रा में खड़े होने में मदद कर सकती हैं, बल्कि आपके नाजुक अंगों को किसी भी तरह की चोट से भी बचा सकती हैं। हड्डियों का ख्याल रखने में कैल्शियम का बहुत बड़ा रोल है। कैल्शियम एक ऐसा खनिज है, जो हड्डियों के घनत्व (Bone Density) और हड्डियों की मजबूती को बढ़ाने में मदद करता है। हमें बचपन से ही हड्डियों को मजबूत करने के लिए कैल्शियम युक्त फूड्स जैसे डेयरी और कैल्शियम सप्लीमेंट खाने चाहिए। सच्चाई यह है कि स्वस्थ हड्डियों के लिए कैल्शियम ही एकमात्र खनिज नहीं है। आपके हड्डी के स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए कई अन्य पोषक तत्व समान रूप से जरूरत है। ये सभी खनिज मिलकर आपकी हड्डियों के घनत्व को बढ़ाते हैं और उम्र बढ़ने पर भी उन्हें स्वस्थ रखते हैं। जानें कैल्शियम के अलावा कौन-से विटामिन्स हैं, जो बोन डेंसिटी को बढ़ाने के लिए जरूरी हैं।

विटामिन डी
विटामिन डी, जिसे सनशाइन पोषक तत्व के रूप में भी जाना जाता है। हड्डियों के घनत्व को बढ़ाने और स्वस्थ हड्डियों के स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए भी जरूरी है। विटामिन डी कैल्शियम के अवशोषण और रक्त में पोषक तत्वों की पर्याप्त मात्रा को बनाए रखने में मदद करता है। जब आपके रक्त में कैल्शियम का स्तर कम होता है, तो यह पोषक तत्व आपके द्वारा खाए जाने वाले भोजन या हड्डियों से खींचकर इसे अवशोषित करना शुरू कर देता है। 


प्रोटीन 
हाई प्रोटीन आपकी मसल्स के लिए ही नहीं बल्कि हड्डियों की हेल्थ के लिए भी जरूरी है। प्रोटीन हड्डी के आयतन का लगभग 50 प्रतिशत और उसके द्रव्यमान का एक तिहाई भाग बनाता है। प्रोटीन का पर्याप्त सेवन फ्रैक्चर और हड्डियों के डैमेज होने के खतरे को भी कम कर सकता है। प्रोटीन के स्रोतों में मसूर, सेम, मांस, मुर्गी और डेयरी उत्पाद शामिल हैं।

मैग्नीशियम 
मैग्नीशियम हड्डियों की सेहत के लिए जरूरी है क्योंकि इस खनिज का लगभग 60 प्रतिशत अस्थि ऊतक में पाया जाता है। कई अध्ययनों से पता चलता है कि जो लोग अपने आहार के माध्यम से अधिक मात्रा में मैग्नीशियम का सेवन करते हैं, उनकी हड्डियों का घनत्व कम मैग्नीशियम का सेवन करने वालों की तुलना में बेहतर होता है। इससे ऑस्टियोपोरोसिस का रिस्क भी काफी कम होता है।

विटामिन सी
जर्नल न्यूट्रिएंट्स में प्रकाशित अध्ययन अनुसार विटामिन सी अस्थि मैट्रिक्स में कोलेजन के उत्पादन के लिए जिम्मेदार है। यह हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक मुक्त कणों को भी साफ करता है। इसके अलावा, विटामिन सी एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट है, जो इम्यूनिटी बढ़ाता है। विटामिन सी की एक सामान्य खुराक लगभग 500 मिलीग्राम से 1000 मिलीग्राम प्रति दिन है। इसका सेवन ज्यादा नहीं करना चाहिए।