Saturday, December 10निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

एक कंपनी खरीदने को अनिल अग्रवाल ने लगा दी ताकत, 10 साल बाद मिली सफलता

नई दिल्ली. वैसे तो दिग्गज अरबपति अनिल अग्रवाल ने देश-विदेश में कई कंपनियों का अधिग्रहण किया है लेकिन एक ऐसी भी कंपनी थी जिसे खरीदने में उन्हें 10 साल लग गए। हिंदुस्तान टाइम्स लीडरशिप समिट 2022 के पांचवें दिन वेदांता के फाउंडर अनिल अग्रवाल ने इस किस्से के बारे में बताया। 
समिट के दौरान अनिल अग्रवाल ने बताया कि वह करीब 10 साल से जापान की कंपनी अवानस्ट्रेट को खरीदने की कोशिश कर रहे थे। इस डील के लिए वह हर साल जापान भी जाते थे। अनिल अग्रवाल आगे कहते हैं कि जापान में कंपनी की बिक्री सही नहीं मानी जाती है।

हालांकि, करीब 3 साल पहले अनिल अग्रवाल ने अवानस्ट्रेट के अधिग्रहण के लिए सफलता हासिल कर ली। इस कंपनी के ताइवान, कोरिया और जापान में 2500 से ज्यादा कर्मचारी हैं। आपको बता दें कि अवानस्ट्रेट मदर ग्लास बनाती है।

हाल ही में वेदांता ने ताइवान की फॉक्सकॉन के साथ मिलकर गुजरात में सेमीकंडक्टर और डिस्प्ले प्रोडक्शन प्लांट लगाने का ऐलान किया है। इसके लिए कंपनी गुजरात में 19.5 अरब डॉलर का निवेश करेगी। अनिल अग्रवाल का कहना है कि गुजरात में प्लांट स्थापित करने की अपनी चुनौतियां हैं।