Wednesday, February 1निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

इंटरपोल ने दिया भारत को झटका, खालिस्तानी समर्थक पन्नू के खिलाफ क्यों जारी नहीं किया नोटिस?

नई दिल्ली

अंतरराष्ट्रीय आपराधिक पुलिस संगठन यानी इंटरपोल ने खालिस्तान अलगाववादी गुरपतवंत सिंह पन्नून के खिलाफ आतंकवाद के आरोपों पर रेड कॉर्नर नोटिस जारी करने से इनकार कर दिया। दरअसल भारत ने इंटरपोल से गुरपतवंत सिंह पन्नून के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी करने को कहा था। लेकिन अब जवाब में इंटरपोल ने भारत से ही कुछ सवाल पूछे हैं। इंटरपोल का कहना है कि भारतीय अधिकारी इस मामले में पर्याप्त जानकारी उपलब्ध नहीं करा पाए। 

इससे पहले केंद्रीय जांच ब्यूरो ने भारतीय एजेंसियों द्वारा दिए गए सभी इनपुट इंटरपोल के पास जमा कर दिए थे, लेकिन इंटरपोल ने भारत के अनुरोध को वापस करते हुए कुछ सवाल पूछे हैं। दरअसल कुछ मीडिया रिपोर्टों में दावा किया गया है कि इंटरपोल ने भारत के आतंकवाद विरोधी कानून गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम (UAPA) को लेकर सवाल किया है। मीडिया रिपोर्टों की मानें तो इंटरपोल ने कहा कि UAPA की आलोचना होती रही है। यह आलोचना अल्पसंख्यक समूहों को टारगेट करने और अन्य कार्यकर्ताओं के अधिकारों के खिलाफ इस्तेमाल के लिए की गई है।

एनडीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक, सरकारी सूत्रों ने जोर देकर कहा कि इंटरपोल ने आतंकवाद विरोधी कानून गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम के किसी भी “दुरुपयोग” को चिह्नित नहीं किया है। मीडिया रिपोर्टों में किए गए दावे गलत हैं। रिपोर्टों में कहा गया है कि इंटरपोल ने भी पन्नू को एक ‘हाई-प्रोफाइल सिख अलगाववादी’ माना है। इंटरपोल के मुताबिक एसएफजे एक ऐसा समूह है जो एक स्वतंत्र खालिस्तान की मांग करता है। इसके बावजूद इंटरपोल का कहना है कि उसकी गतिविधियां गतिविधियों का एक स्पष्ट राजनीतिक उद्देश्य है, जो इंटरपोल के संविधान के अनुसार रेड कॉर्नर नोटिस का विषय नहीं हो सकता है।