Thursday, February 2निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

आस्ट्रेलिया ने भारत के खिलाफ 4-1 से सीरीज जीती

एडिलेड (वार्ता). भारत और आस्ट्रेलिया के बीच पांच मैचों की हॉकी टेस्ट सीरीज का अंतिम मुकाबला रविवार को एडिलेड में खेला गया। इस मैच में आस्ट्रेलिया ने भारत को 4-5 के अंतर से हराकर पांच मैच की सीरीज में 4-1 से अपने नाम कर लिया।
वर्ल्ड कप से पहले भारतीय हॉकी टीम का ऐसा प्रदर्शन चिंता का विषय है। सीरीज के हालांकि दो मैच बेहद करीबी रहे। कप्तान हरमनप्रीत सिंह के दो गोल के बावजूद टीम को अंतिम मैच में हार का सामना करना पड़ा। भारत ने शुरूआती दो मैच 4-5 और 4-7 से गंवाने के बार तीसरा मैच 4-3 से जीता था। चौथे मैच में भारतीय टीम को 1-5 से शिकस्त का सामना करना पड़ा था।
जनवरी में होने वाले आगामी एफआईएच ओडिशा हॉकी पुरुष विश्व कप 2023 भुवनेश्वर-राउरकेला की तैयारी के मद्देनजर पांच मैचों की यह सीरीज भारतीय टीम के लिए महत्वपूर्ण है। जिसमें भारत केवल एक मैच में जीत दर्ज कर सका।
रविवार को हुए मैच में टॉम विकहैम ने दूसरे और 17वें मिनट में आॅस्ट्रेलिया के लिए दो गोल दागे जबकि एरेन जेलवस्की 30वें मिनट में , जेकब एंडरसन ने 40वें मिनट और जेक वेटन ने 54वें मिनट में मेजबान टीम पर एक-एक गोल किया। भारत के लिए कप्तान हरमनप्रीत सिंह ने 24वें और 60वें मिनट में टीम के लिए गोल दागे, जबकि अमित रोहिदास ने 34वें मिनट और सुखजीत सिंह ने 55वें मिनट में एक-एक गोल दागा।
आॅस्ट्रेलिया ने दूसरे मिनट की शुरूआत में ही बढ़त बना ली थी। आस्ट्रेलिया के उप-कप्तान अरन जाल्वेस्की ने भारतीय डिफेंस के बीच टॉम विकम को सर्कल के अंदर पाया और बाद उसे गेंद पास की टॉम ने जोरदार शॉट लगाया जिसका भारतीय गोलकीपर पीआर श्रीजेश से कोई तोड़ नही था।
भारत ने शुरूआती गोल के बाद टीम ने कई बार वापसी की जिससे उन्हें लगातार तीन पेनल्टी कार्नर मिले, लेकिन भारतीय टीम पेनल्टी कॉर्नर को गोल में तब्दील नहीं कर सकी।
आॅस्ट्रेलिया ने दूसरे क्वार्टर में दो मिनट में अपनी बढ़त को दोगुना कर दिया। मिडफील्ड में जुगराज सिंह के फिसलने के बाद शार्प के हाथों में गेंद आयी और एक बार फिर टॉम विकम ने गोल में बदल दिया। लैकलेन शार्प ने मिडफील्ड से गेंद को अपने कब्जे में लिया और भारत के कुछ डिफेंडरों को छकाते हुए गेंद को विकहैम के पास पहुंचाया जिन्हें सिर्फ भारत के गोलकीपर पीआर श्रीजेश को छकाना था और उन्होंने इसमें कोई गलती नहीं की।
आॅस्ट्रेलिया को लगातार दो पेनल्टी कॉर्नर मिले लेकिन रिजर्व गोलकीपर कृष्ण बहादुर पाठक ने जेरेमी हेवर्ड के प्रयासों को नाकाम कर दिया। आॅस्ट्रेलिया ने हालांकि जेलवस्की की बदौलत हाफ टाइम से ठीक पहले 3-1 की बढ़त हासिल कर ली। मध्यांतर के बाद भारत ने आक्रामक शुरूआत की और रोहिदास के गोल से स्कोर 2-3 कर दिया। कुछ मिनटों बाद श्रीजेश ने शार्प के हमले को नाकाम किया। आॅस्ट्रेलिया ने हालांकि दबाव बनाए रखा और 40वें मिनट में एंडरसन ने डेनियल बील के पास पर गोल दाग दिया। वेटन ने एक और गोल दागकर मेजबान टीम को 5-2 की बढ़त दिलाई। सुखजीत ने इसके बाद आॅस्ट्रेलिया की बढ़त को कम किया। अंतिम मिनट में मिले पेनल्टी कॉर्नर को हरमनप्रीत गोल में तब्दील नहीं कर पाए और टीम को हार से नहीं बचा पाए।