Wednesday, November 30निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

अनियमितताओं व भ्रष्टाचार की जांच की मांग

  • सीएमएचओ कार्यालय पर धरना-प्रदर्शन कर सौंपा ज्ञापन
    हनुमानगढ़ (सीमा सन्देश न्यूज)।
    संगरिया तहसील के गांव रतनपुरा में संचालित भगवान महावीर स्वामी धर्मार्थ चिकित्सालय में कथित रूप से बरती जा रही अनियमितताओं, भ्रष्टाचार व मरीजों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ करने का आरोप लगाते हुए भातर की जनवादी नौजवान सभा के कार्यकर्ताओं ने शुक्रवार को मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय में धरना देकर प्रदर्शन किया। धरना-प्रदर्शन के बाद सीएमएचओ को मांगपत्र सौंप जांच की मांग की। इस मौके पर डीवाईएफआई के जगजीत सिंह जग्गी ने आरोप लगाया कि संगरिया तहसील के गांव रतनपुरा में संचालित भगवान महावीर स्वामी धर्मार्थ चिकित्सालय में मैनेजमेंट कमेटी की ओर से अनैतिक व अवैध कार्य किए जा रहे हैं। अस्पताल में कार्यरत स्टॉफ अप्रशिक्षित है। मैनेजमेंट कमेटी के दवाब में मरीजों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि अस्पताल में बरती जा रही अनियमितताओं, भ्रष्टाचार व मरीजों के स्वास्थ्य के साथ किए जा रहे खिलवाड़ तथा कर्मचारियों के शोषण के संबंध में 24 सितम्बर को जिला कलक्टर व मुख्य चिकित्सा अधिकारी को प्रार्थना सौंपकर अवगत करवाया गया था। लेकिन अभी तक कोई कार्यवाही इस हॉस्पिटल के संचालकों के खिलाफ नहीं की गई। कमल जैन के अनुसार अस्पताल की मैनेजमेंट कमेटी में प्रभावशाली व्यक्ति शामिल है। इस कारण कोई कार्यवाही नहीं की जा रही। उल्टा शिकायतकर्ताओं को बार-बार धमकाया जा रहा है। सीएमएचओ को सौंपे गए मांगपत्र में भगवान महावीर स्वामी धर्मार्थ चिकित्सालय व संस्था के आय-व्यय के रिकॉर्ड की जांच करने, अस्पताल में हो रहे अवैध कार्य (भ्रूण लिंग जांच) की जांच करने, अस्पताल में स्थित लैबोरेट्री में मरीज के रोग से संबंधित खून की जांच करवाने के आदेश देने, आंखों के पर्दे की जांच के नाम पर अवैध रूप से 1200 रुपए की वसूली बंद करवाने, मरीज पर 6500, 8500 रुपए कीमत वाले आंखों के लैंस डलवाने की बाध्यता समाप्त करने, अस्पताल में स्त्री रोग विशेषज्ञ को ही आॅपरेशन थिएटर में सामान्य डिलीवरी करवाने के लिए पाबंद करने, अस्पताल में कार्यरत कर्मचारियों का शोषण बंद करने, संस्था के परिवार व अन्य सदस्यों के नाम पर फर्जी तरीके से उठाई जा रही तनख्वाह से संबंधित रिकॉर्ड की जांच करने, अस्पताल में स्थित मेडिकल पर अधिक दामों पर की जा रही दवाई बिक्री बंद करने, समिति के पदाधिकारियों व उनके परिवार के सदस्यों के बैंक खातों की जांच करने आदि की मांग की गई। इस मौके पर डीवाईएफआई के जिला उपाध्यक्ष कमल जैन, कालूराम, रणवीर सिंह, बीरबल, रामेश्वर आदि मौजूद थे। उधर, सीएमएचओ डॉ. नवनीत शर्मा ने बताया कि शिकायत मिलने पर डिप्टी सीएमएचओ और बीसीएमओ की कमेटी गठित कर दी गई है। कमेटी से जांच करवाई जाएगी। जांच रिपोर्ट जिला कलक्टर को सौंप नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।