Thursday, December 8निर्मीक - निष्पक्ष - विश्वसनीय
Shadow

अधिकारियों की सुस्ती पर सरपंचों की नाराजगी

  • पंचायत समिति की साधारण सभा की बैठक में छाए बिजली-पानी के मुद्दे
    हनुमानगढ़ (सीमा सन्देश न्यूज)।
    पंचायत समिति हनुमानगढ़ की साधारण सभा की बैठक गुरुवार को टाउन स्थित पंचायत समिति कार्यालय के सभागार में प्रधान इन्द्रा जाखड़ की अध्यक्षता में आयोजित की गई। बैठक में बिजली, पानी, अतिक्रमण सहित कई मुद्दे छाए रहे। बैठक में राष्टÑीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना व पंचायती राज योजनाओं की समीक्षा की गई। मुख्यमंत्री ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना पर चर्चा की गई। गत बैठक में उठे मुद्दों के हुए समाधान पर भी चर्चा की गई। बैठक में मौजूद सरपंचों एवं पंचायत समिति सदस्यों ने अपने-अपने क्षेत्र में पानी, बिजली, सड़क, शिक्षा, चिकित्सा सहित अनेक समस्याओं के बारे में बताया और इनके समाधान की मांग रखी। बैठक में नाराज सरपंचों का कहना था कि हर बार की बैठक में जनप्रतिनिधि अपने-अपने गांवों की समस्याएं तो रखते हैं लेकिन विभागों के अधिकारी उन पर गौर नहीं करते। समस्या जस की तस पड़ी रहती है। अधिकारी नहीं चाहते कि समस्या दूर हो। ग्राम पंचायत अमरपुरा थेड़ी सरपंच रोहित स्वामी ने बैठक में यहां तक कह दिया कि अगर उनकी समस्याओं का समाधान नहीं हुआ तो अगली बैठक में कोई भी सरपंच मौजूद नहीं होगा। सरपंचों की ओर से आंदोलन किया जाएगा। संबंधित विभागों के कार्यालयों का घेराव किया जाएगा। इस पर प्रधान ने विभागीय अधिकारियों को इन समस्याओं का शीघ्र निस्तारण करने के निर्देश दिए। इस दौरान प्रधान इन्द्रा जाखड़ ने कहा कि अधिकारी अपने कर्तव्यों एवं दायित्वों को समझते हुए जनप्रतिनिधियों की समस्याओं पर त्वरित कार्यवाही करते हुए राहत पहुंचाने का पूरा प्रयास करें। ग्रामीणों के समय पर काम नहीं होने पर संबंधित क्षेत्र के निर्वाचित जनप्रतिनिधि को जवाब देना भारी पड़ता है, ऐसे में अधिकारी एवं जनप्रतिनिधि समन्वय बनाकर काम करें ताकि पात्र और पीड़ित को समय पर योजनाओं का लाभ मिले एवं समस्या से राहत मिल सके। बैठक में कुल 41 में से 25 सरपंच जबकि 23 सदस्यों में से मात्र 3 सदस्य शामिल हुए। बैठक में विकास अधिकारी यशपाल असीजा, कृषि उपज मंडी समिति टाउन अध्यक्ष अमरसिंह सिहाग, एसीबीईओ सीमा भल्ला के अलावा विद्युत, सिंचाई, पेयजल, कृषि, सार्वजनिक निर्माण, शिक्षा, कृषि उपज मंडी समिति, वन, रसद, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य, पशुपालन, महिला एवं बाल विकास सहित अन्य विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।